November 27, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

100 करोड़ वैक्सीनेशन अच्छी बात है लेकिन ईंधन के दामों, मंहगाई, बेरोज़गारी और भूख पर क्यों नहीं बोलते पीएम’ -CPI(माक्सिस्ट) महासचिव सीताराम येचुरी

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के महासचिव सीताराम येचुरी ने 100 करोड़ से अधिक कोविड-19 वैक्सीन जैब्स को प्रशासित करने के लिए केंद्र सरकार की सराहना करते हुए शुक्रवार को बढ़ते ईंधन के बढ़ते दामों, मंहगाई, बेरोज़गारी और भूख पर चिंता जताई।

 

Sitaram Yechury/twitter

 

समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए, येचुरी ने कहा, “मैं इस उपलब्धि पर देशवासियों को बधाई देता हूं। हालांकि, मेरा मानना ​​​​है कि केवल 21 प्रतिशत आबादी को कोविड -19 वैक्सीन की दूसरी ख़ुराक़ दी गई है। आज राष्ट्र के नाम संबोधन में, प्रधान मंत्री मंत्री जी ने देश में ईंधन की बढ़ती कीमतों, बेरोज़गारी और भूख जैसे मुद्दों पर बात नहीं की।”

येचुरी ने आगे कहा, “वैक्सीन सेंचुरी अपने आप में एक उपलब्धि है लेकिन लोगों को ये भी पता होना चाहिए कि दुनिया में केवल दो देश हैं जिनकी आबादी 125 करोड़ से अधिक है। दूसरे देश (चीन की ओर इशारा करते हुए) ने हमारी तुलना में अधिक वैक्सीन शॉट्स लगवाए हैं। पहले, प्रधानमंत्री ने आश्वासन दिया था कि साल के अंत तक, देश के सभी वयस्कों को टीका लगाया जाएगा लेकिन यह आश्वासन दूर की कौड़ी लगता है।”

ईंधन की बढ़ती कीमतों, बेरोज़गारी और भूख जैसे मुद्दों की ओर इशारा करते हुए, माकपा नेता ने कहा, “लोगों को बहुत सारी समस्याएं हैं। प्रधानमंत्री ने किसी समस्या का ज़िक्र नहीं किया। पेट्रोल-डीजल के दाम हर दिन बढ़ रहे हैं, एक साल से किसानों का आंदोलन चल रहा है, लखीमपुर खीरी की घटना हुई, बेरोज़गारी बढ़ रही है, भूख बढ़ती जा रही है, एक करोड़ से ज़्यादा अनाज केंद्रीय गोदाम में पड़ा है… सरकार बांट क्यों नहीं रही है? ये सभी महत्वपूर्ण मुद्दे जो लोगों के दैनिक जीवन से जुड़े हुए हैं।”

Translate »