September 26, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

लंदन में जमीन का वारिस बनाकर 12.5 मिलियन पाउंड देने के नाम पर आईटी इंजीनियर से ठगी करने वाले 3 गिरफ्तार

गौतम बुद्ध नगर के ग्रेटर नोएडा वेस्ट में रहने वाले तुषार वार्ष्णेय के साथ 60 लाख रुपए की ठगी करने वाले 3 आरोपियों को नोएडा पुलिस ने शुक्रवार को दबोच लिया है।

यह तीनों आरोपी साइबर ठगों को अपना बैंक अकाउंट देते थे। जिसके एवज में यह साइबर ठगों से मोटी रकम वसूलते थे। गौतम बुद्ध नगर पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर पूरे मामले का खुलासा किया है।

दरअसल, ग्रेटर नोएडा वेस्ट की गौर सिटी सोसायटी में रहने वाले तुषार वार्ष्णेय के पास साल 2019 को एक मेल आया था। जो मेल एडवोकेट ब्रूज ऐडी के नाम से आया था। जिसमें एडवोकेट ब्रूज ऐडी आने आपको लंदन का निवासी बता रहा था। मेल में एडवोकेट ब्रूज ऐडी ने तुषार वार्ष्णेय को लिखा था कि, लंदन में साल 2005 में एक सड़क हादसे में ब्रज वार्ष्णेय की परिवार के साथ मौत हो गई थी। एडवोकेट ब्रूज ऐडी का कहना था कि, उनका नाम और सड़क हादसे में मरने वाले लोगों का सर नाम सेम है। जिसके कारण वो उनको ब्रज वार्ष्णेय का वारिस बना देगा और उसके बैंक अकाउंट में 2.5 मिलियन पाउंड आ जायेंगे। जिसमें से उसका 50 फीसदी कमीशन होगा।

तुषार वार्ष्णेय लंदन का एडवोकेट बताने वाले ब्रूज ऐडी के झांसे में आ गया और जैसे-जैसा ब्रूज ऐडी ने बोला, उसने वैसा-वैसा किया। आईटी इंजीनियर तुषार वार्ष्णेय से ठगी करने वाले आरोपी काफी शातिर थे। ब्रूज ऐडी के मेल के बाद तुषार वार्ष्णेय के पास एक मेल एटार्नी जनरल निवासी ब्रिटेन की तरफ से आया। मेल में एटार्नी जनरल ने इंजीनियर तुषार वार्ष्णेय को लिखा कि, उसको नाटिसिक्स बैंक में एक फंड रिलीज फॉर्म भरना होगा। जिसके बाद तुषार वार्ष्णेय ने वो फॉर्म भर दिया।

जिसके बाद तुषार वार्ष्णेय के पास एक और मेल आया कि, जिसमें लिखा था कि सारा फंड मुंबई के आरबीआइ बैंक में आ गया है। अब उसको विदेशी करेंसी को भारतीय करेंसी में बदलने और कस्टम ड्यूटी के नाम 60 लाख रुपए देने होंगे। इसके लिए ठगों ने तुषार वार्ष्णेय को बैंक अकाउंट दिए। तुषार वार्ष्णेय ने साइबर ठगों के झांसे में आकर 60 लाख रुपए उनके बताए गए बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर दिए। उसके बाद ना तो उसको 2.5 मिलियन पाउंड मिले और ना ही अपने आपको को ब्रिटेन का एडवोकेट बताने वाले से संपर्क हुआ।

जिसके बाद उसको ठगी का शिकार होने का पता चला तो नोएडा साइबर क्राइम टीम को मामले की जानकारी दी। नोएडा साइबर क्राइम पुलिस टीम ने मुकदमा दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी। इस मामले में पुलिस ने अभी तक पति-पत्नी समेत 3 लोगों को पहले ही गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। अब शुक्रवार को पुलिस ने इस मामले में तीन फरार आरोपियों को भी अरेस्ट कर जेल भेज दिया था। हालांकि अभी तक पुलिस मुख्य ठग से काफी दूर है। पुलिस का दावा है कि, जल्द ही मुख्य आरोपी और गैंग का सरगना पुलिस की गिरफ्त में होगा।

You may have missed

Translate »