पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के खिलाफ 5 हजार पन्ने की चार्जशीट दाखिल, पांच अन्य लोगों का नाम शामिल

by Priya Pandey
0 comment

पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन सहित पांच के खिलाफ रांची जमीन घोटाला मामले में ED ने शनिवार को रांची स्थित ईडी की विशेष अदालत में चार्जशीट दाखिल कर दिया है। यह चार्जशीट 5000 पन्ने से अधिक की बताई जा रही है। चार्जशीट के अनुसार, अन्य आरोपितों में बड़गाईं अंचल का राजस्व उप निरीक्षक भानु प्रताप प्रसाद, हेमंत के करीबी साथी आर्किटेक्ट विनोद सिंह, विवादित जमीन पर चारदीवारी करवाने वाले हिलेरियस कच्छप व जमीन के असली रैयत राजकुमार पाहन शामिल हैं।ईडी ने चार्जशीट में बताया है कि कैसे सबने एक-दूसरे की मिलीभगत से उक्त प्रतिबंधित किस्म की जमीन को हेमंत सोरेन व उनके पारिवारिक सदस्यों के नाम पर हस्तांतरित करने की कोशिश की। इन सभी आरोपितों में अब तक सिर्फ पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन व बड़गाईं अंचल के राजस्व उप निरीक्षक भानु प्रताप प्रसाद ही गिरफ्तार हुए व जेल में बंद हैं। अन्य तीन चार्जशीटेड आरोपित फिलहाल बाहर हैं।

ईडी ने रांची के सदर थाने में एक जून 2023 को दर्ज कांड संख्या 272/23 के आधार पर 26 जून 2023 को ईसीआइआर दर्ज की थी। यही वह केस है, जिसमें मनी लांड्रिंग के तहत अनुसंधान के क्रम में पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन गिरफ्तार हुए हैं। यह कांड बड़गाईं अंचल के तत्कालीन राजस्व उप निरीक्षक भानु प्रताप प्रसाद के विरुद्ध दर्ज की गई थी। यह केस भानु प्रताप प्रसाद के निजी आवास से 13 अप्रैल 2023 को ईडी की छापेमारी में बरामद 11 ट्रंक जब्त सरकारी दस्तावेज से संबंधित था। यह छापेमारी ईडी ने सेना के उपयोग वाली 4.55 एकड़ जमीन व चेशायर होम रोड की एक एकड़ जमीन की फर्जी तरीके से खरीद-बिक्री मामले में की थी।

छापेमारी में भानु प्रताप प्रसाद के मोबाइल को भी ईडी ने जब्त किया था। तब ईडी को छानबीन में पता चला था कि भानु प्रताप प्रसाद जाली दस्तावेज तैयार करने, अवैध तरीके से जमीन पर कब्जा करने में लिप्त था। इसके बाद ईडी ने 14 अप्रैल 2023 को भानु प्रताप प्रसाद सहित छह आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेजा था।

ईडी की विशेष अदालत में दाखिल चार्जशीट में ईडी ने बताया है कि तत्कालीन मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने अपने पावर का गलत इस्तेमाल किया। इस केस से संबंधित साक्ष्य को नष्ट करने का प्रयास भी किया। ईडी ने जमीन घोटाला मामले में हेमंत सोरेन को सबसे पहले आठ अगस्त 2023 को समन कर 14 अगस्त को उपस्थित होने के लिए कहा था।

बता दें 31 जनवरी को हेमंत सोरेन की गिरफ्तारी हुई थी। नियम के अनुसार ईडी की टीम ने 60 दिन के भीतर कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दिया है। आरोप पत्र दायर होने के बाद अब कोर्ट में सुनवाई होगी और आरोप पत्रों के आधार पर अदालत आगे की कार्रवाई करेगी।

About Post Author