April 11, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

लखनऊ सचिवालय में तैनात युवक ने ट्रेन के आगे कूदकर दी जान, दिग्गज महिला आईपीएस पर गंभीर आरोप, अब जानिए पुलिस ने क्या कहा

लखनऊ में बुधवार की दोपहर सचिवालय में तैनात एक संविदा कर्मी ने ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी है। युवक ने आत्महत्या करने से पहले एक सुसाइड नोट छोड़ा है। जिसमें युवक ने एक दिग्गज आईपीएस महिला पर गंभीर आरोप लगाए हैं। युवक ने सुसाइड नोट में लिखा है कि, उसको महिला अधिकारी ने गलत तरीके से फंसाया था। इसलिए उसने सुसाइड किया है। हालांकि लखनऊ पुलिस ने मरने वाले युवक के सभी आरोपों को खंडित किया है।
यह मामला लखनऊ के हसनगंज थाना क्षेत्र का है। बुधवार को एक 26 साल के युवक विशाल सैनी ने ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी। आत्महत्या करने से पहले युवक ने एक सुसाइड नोट छोड़ा है। जिसमें युवक ने दिग्गज महिला आईपीएस प्राची सिंह पर गंभीर आरोप लगाए हैं।
युवक ने सुसाइड नोट में लिखा है कि “मेरे आत्महत्या करने की जिम्मेदारी आईपीएस प्राची सिंह हैं, जिन्होंने मेरा करियर खराब कर दिया। इनकी वजह से मैं समाज में नजरें उठाकर नहीं चल पा रहा हूं, जिसकी वजह से मुझे घुटन सी हो रही है। आईपीएस प्राची सिंह ने मुझे सेक्स रैकेट में फंसाया है, जिसकी वजह से मैं अपने परिवार से भी नजरें नहीं मिला पा रहा हूं।” विशाल सैनी ने मरते हुए सुसाइड नोट में कहा है कि, ” मैं चाहता हूं कि आईपीएस प्राची सिंह को सख्त से सख्त सजा मिले। जिससे वो आगे से किसी निर्दोष युवक को मरने के लिए मजबूर ना करें। विशाल सैनी ने इस मामले में पुलिस से मदद की गुहार लगाई थी।
लखनऊ पुलिस ने महिला आईपीएस को दी क्लीन चिट
इस मामले में लखनऊ पुलिस कमिश्नरेट ने महिला आईपीएस प्राची सिंह को क्लीन चिट दे दी है। लखनऊ पुलिस के प्रवक्ता ने बताया कि आरोपी युवक सेक्स रैकेट में पकड़ा गया था। जिसकी वजह से उसको सजा भी हुई है। किसी भी पुलिसकर्मी द्वारा विशाल सैनी को फसाया नहीं गया है। आरोपी युवक 20 तारीख को जेल से छूटा था। उसके बाद से ही वह परेशान चल रहा था। जिसके चलते उसने सुसाइड किया है। पुलिस ने युवक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।
आईपीएस प्राची सिंह ने भी दिया अपना बयान
आईपीएस प्राची सिंह ने इस मामले में सफाई देते हुए कहा है कि, मैं अभी तक नहीं जान पाई हूं कि विशाल सैनी ने आत्महत्या क्यों की है। उन्होंने बताया कि विशाल सैनी को किसी भी गलत आरोप में फंसाया नहीं गया है। इस मामले में उन्होंने खुद अच्छी तरह जांच की थी। विशाल सैनी के आरोपी पाए जाने के बाद ही कार्रवाई की गई थी। आईपीएस प्राची सिंह ने बताया कि विशाल सैनी द्वारा लगाए गए सभी आरोप निराधार हैं। वह उस समय अपनी ड्यूटी पर तैनात थी। जिस समय विशाल सैनी को सेक्स रैकेट के मामले में गिरफ्तार किया गया था। उन्होंने खुद विशाल सैनी की मौत पर दुख व्यक्त किया है।
क्या कहता है विशाल का परिवार
विशाल 13 फरवरी को इंदिरा नगर गया था। वहां वह एक ठेले पर चाऊमीन खा रहा था, तभी पुलिस ने वहां सड़क किनारे मसाज पार्लर पर छापेमारी की। उसी दौरान एडीसीपी प्राची सिंह भी वहां पहुंच गईं। उनके कहने पर सिपाहियों ने विशाल को दबोच लिया। कारण पूछने पर सेक्स रैकेट में शामिल होने की बात कही। विशाल सचिवालय कर्मी होने की दुहाई देता रहा। मगर, उसकी कोई बात नहीं सुनी गई। 20 फरवरी को विशाल जेल से छूटकर आया था। घर लौटने के बाद से ही वह काफी उदास था। उसने हमारी कसम खाते हुए झूठे मुकदमे में फंसाये जाने की बात कही थी।
Translate »