October 26, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

अमित शाह से मिलने के बाद अब कैप्टन अमरिंदर सिंह ने की NSA अजीत डोभाल से भेंट

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने गुरुवार को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल से उनके आवास पर मुलाक़ात की।

 

 

समाचार एजेंसी एनडीटीवी के मुताबिक़, यह भी कहा जा रहा है कि कांग्रेस अमरिंदर सिंह तक पहुंच गई है और वरिष्ठ नेता अंबिका सोनी और कमलनाथ अमरिंदर सिंह को शांत करने की कोशिश कर रहे हैं।

सिंह ने बुधवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाक़ात कर चल रहे किसानों के आंदोलन पर चर्चा की थी और उनसे तीन कृषि क़ानूनों को तुरंत निरस्त करके संकट को हल करने का आग्रह किया था।

79 वर्षीय दिग्गज नेता अमरिंदर सिंह ने न तो इस बात की पुष्टि की है और न ही इनकार किया है कि राज्य चुनावों से ठीक चार महीने पहले 18 सितंबर को पंजाब के मुख्यमंत्री के रूप में पद छोड़ने के लिए मजबूर होने के बाद वह अपने लिए विकल्प तलाश रहे हैं।

 

क्या बीजेपी में शामिल होंगे कैप्टन?

शाह के साथ बैठक पंजाब कांग्रेस में ताज़ा उथल-पुथल के बीच हुई, जिसमें राज्य कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू के अचानक इस्तीफ़े के साथ कांग्रेस नेता बीजेपी में शामिल हो सकते हैं।

बता दें कि 18 सितंबर को अमरिंदर सिंह ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा दे दिया था और मीडिया को बताया था कि कांग्रेस नेतृत्व ने उन्हें निराश किया था। उन्होंने इस पर भी तंज़ कसा था कि सिद्धू ने अपने इस्तीफ़े पर कहा कि वह स्थिर व्यक्ति नहीं हैं।

पंजाब में आगामी विधानसभा चुनावों में मुक़ाबला सुनिश्चित करने के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रयासों के बीच यह बैठक हुई। राज्य में सत्तारूढ़ कांग्रेस, आम आदमी पार्टी (आप) और शिअद-बसपा गठबंधन से भाजपा को एक बड़ी राजनीतिक चुनौती का सामना करना पड़ रहा है।

ग़ौरतलब है कि शिरोमणि अकाली दल पंजाब में बीजेपी का भरोसेमंद सहयोगी था, लेकिन कृषि क़ानूनों पर अपने रुख के कारण वह पार्टी से अलग हो गया। अगर अमरिंदर सिंह भाजपा में शामिल होते हैं, तो राज्य में राजनीतिक समीकरण बदल जाएंगे और पार्टी को विधानसभा चुनावों में फ़ायदा होगा।

सत्ता समीकरणों में एक “ग़ैर-दावेदार” के रूप में देखे जाने वाली बीजेपी अब पंजाब विधानसभा चुनावों में एक मज़बूत प्रतियोगी के रूप में उभरने की कोशिश कर रही है।

Translate »