Tuesday, August 9, 2022

MOTHER LAND POST

MOTHERLANDPOST

“यूक्रेन को आज के स्थिति में अमेरिका घसीटकर लाया है”,ईरान के सर्वोच्च धार्मिक नेता ख़ामेनेई का यूक्रेन संकट के बीच बड़ा बयान

by Sachin Singh Rathore
0 comment

ईरान के सर्वोच्च धार्मिक नेता अयातुल्लाह अली ख़ामेनेई ने कहा है कि यूक्रेन अमेरिका की ओर से पैदा किए गए संकट का शिकार है अमेरिका के कारण आज यूक्रेन इस कगार पर आ पहुँचा है। उन्होंने कहा कि ईरान यूक्रेन में युद्ध की समाप्ति का समर्थन करता है, लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि इस संकट की जड़ों के बारे में सब को स्वीकार करना होगा।

ख़ामेनेई का भाषण टीवी पर प्रसारित हुआ।  इस भाषण में उन्होंने कहा कि यूक्रेन के संकट ने यह दिखा दिया है कि अमेरिका पर भरोसा नहीं किया जा सकता है। आपको बता दें कि परमाणु समझौता को लेकर अमेरिका और ईरान के बीच लंबे समय से गतिरोध चल रहा है। यह गतिरोध डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल में शुरू हो गया था। जब अमेरिका ने परमाणु समझौते को रद्द कर दिया था। इसके बाद कई दौर की बातचीत दोनों देशों में चल चुकी है, लेकिन अभी तक इस पर कोई भी सहमति नहीं बन पाई है।

यूक्रेन को अमेरिका घसीटकर लाया इस स्तिथि में 

बाइडन उनके कार्यकाल में बातचीत हुई लेकिन समाधान नहीं निकल पाया। यूक्रेन संकट पर ख़ामेनेई ने कहा कि यूक्रेन जहां अभी है, उसे अमेरिका घसीटकर वहां लाया है। यूक्रेन के आंतरिक मामलों में दखल देकर, वहां रंग आधारित क्रांति पैदा करके, एक सरकार को गिरा कर दूसरे को सत्ता में लाकर, अमेरिका ने यूक्रेन को इस स्थिति में पहुंचाया है।

अमेरिका भरोसे के लायक नहीं,यूक्रेन का इस्तेमाल किया 

उन्होंने कहा कि यूक्रेन की स्थिति से एक अहम सबक मिलता है। वह सबक यह है कि जो भी सरकारे अमेरिका और यूरोप पर भरोसा करती है, उन्हें समझना चाहिए कि उनका सच्चा समर्थक नहीं है, ख़ामेनेई ने आगे बताया कि आज का यूक्रेन कल का अफगानिस्तान है। दोनों देशों के राष्ट्रपतियों ने कहा कि उन्होंने अमेरिका और पश्चिमी देशों पर भरोसा किया, लेकिन बाद में अकेले छोड़ दिए गए। उन्होंने कहा कि दूसरा सबक यह है कि सरकारों का अहम समर्थक के लोग होते हैं। अगर यूक्रेन के लोग इसमें शामिल होते तो उनकी सरकार इस स्थिति में नहीं होती, लेकिन वहां के लोगों को इसमें शामिल नहीं किया गया क्योंकि लोगों ने सरकार को अपनी स्वीकृति नहीं दी थी।

About Post Author