September 28, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

‘अफ़ग़ानिस्तान से सेना बुलाने पर कोई अफ़सोस नहीं’- अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन

अफ़ग़ानिस्तान में लगातार हालात गंभीर होते जा रहे हैं, ऐसे में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा है कि उन्हें सेना को अफ़ग़ानिस्तान से वापस बुलाने पर कोई अफ़सोस नहीं है।

 

Credit- REUTERS

 

राष्ट्रपति जो बाइडन ने अफ़ग़ानिस्तान के नेताओं से एक होने का निवेदन करते हुए कहा कि वे ‘अपने राष्ट्र के लिए लड़ें।’
बता दें कि अफ़ग़ानिस्तान में 20 साल के सैन्य अभियान के बाद अब अमेरिकी फ़ौजें वापस जा रही हैं। इस घोषणा के बाद से ही इस्लामिक कट्टरपंथी समूह तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान में हमले करना शुरू कर दिए थे। तालिबान अब देश के 90 फ़ीसद से ज़्यादा सीमा क्षेत्र पर क़ब्ज़ा जमा चुका है और अन्य महत्वपूर्ण इलाक़ों को भी हासिल कर रहा है।

ग़ौरतलब है कि तालिबान ने अब तक 34 प्रांतीय राजधानियों में से कम से कम 8 को अपने क़ब्ज़े में लिया है जबकि कई शहरों पर ख़तरा बना हुआ है।

मंगलवार को व्हाइट हाउस में पत्रकारों से बात करते हुए बाइडन ने कहा कि अमेरिका अफ़ग़ानिस्तान से किए गए वादों को बरक़रार रखे हुए है। इनमें हवाई सहायता, सेना की तनख़्वाह और खाने-उपकरणों की अफ़ग़ान सुरक्षाबलों को सप्लाई शामिल है।
हालांकि मौजूदा स्थितियों पर बाइडन ने कहा कि “उन्हें ख़ुद के लिए लड़ना होगा।”

जंग में लगातार गहराते संकट

संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक़, बीते महीने तालिबान और अफ़ग़ान सुरक्षाबलों के बीच झड़प में अब तक 1,000 से अधिक आम नागरिक मारे जा चुके हैं। बाल एजेंसी यूनिसेफ़ ने इस सप्ताह चेताया है कि बच्चों के ख़िलाफ़ अत्याचार ‘दिन ब दिन बढ़ते ही जा रहे हैं।’

समाचार एजेंसी बीबीसी के मुताबिक़, “तालिबान ने बढ़त क़ायम रखते हुए मंगलवार को दो प्रांतीय राजधानियों फ़राह शहर और पुल-ए-ख़ुमरी पर क़ब्ज़ा कर लिया।
अधिकारियों का कहना है कि विद्रोहियों ने बग़लान प्रांत की राजधानी पुल-ए-ख़ुमरी के गवर्नर दफ़्तर और मुख्य चौराहे पर अपना झंडा फहरा दिया। यह प्रांत राजधानी काबुल से 200 किलोमीटर की दूरी पर है।” फ़राह का पश्चिमी शहर भी क़ब्ज़े में आ गया है।
देश के अन्य हिस्सों में भारी जंग जारी है और अमेरिका और अफ़ग़ान विमान हवाई हमले कर रहे हैं।

Translate »