October 24, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

क्या आपको बूस्टर शॉट लगवाने की ज़रूरत है? जानें सरकार ने क्या कहा

कोविड -19 वैक्सीन के तीसरे शॉट की बातचीत के बीच, सरकार ने गुरुवार को कहा कि बूस्टर खुराक इस समय वैज्ञानिक और सार्वजनिक स्वास्थ्य चर्चा में “केंद्रीय विषय” नहीं है।

 

Reuters

 

ICMR के DG बलराम भार्गव, जो केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के एक प्रेस को संबोधित कर रहे थे, ने ज़ोर देकर कहा कि टीकाकरण की दो ख़ुराक़ लेना “पहली प्राथमिकता” है।

कुछ दिन पहले, द लैंसेट में प्रकाशित वैज्ञानिकों के एक अंतरराष्ट्रीय समूह द्वारा एक समीक्षा में यह भी कहा गया था कि गंभीर कोविड -19 संक्रमण के ख़िलाफ़ टीके की प्रभावकारिता, यहां तक ​​कि डेल्टा वेरिएंट के लिए भी, इतनी अधिक है कि सामान्य आबादी के लिए बूस्टर ख़ुराक़ इस स्तर पर “ज़रूरी” नहीं है।

बता दें कि भारत भी दो डोज़ वाले टीकाकरण को प्राथमिकता देने पर ज़ोर देता रहा है। बूस्टर ख़ुराक़ की आवश्यकता देश में कोविड संक्रमण को देखते हुए विज्ञान द्वारा निर्धारित की जाएगी।

भार्गव ने आज कहा, “इस समय वैज्ञानिक और सार्वजनिक स्वास्थ्य चर्चा में बूस्टर ख़ुराक़ केंद्रीय विषय नहीं है। दो ख़ुराक़ का पूर्ण टीकाकरण प्राप्त करना एक प्रमुख प्राथमिकता है। कई एजेंसियों ने सिफ़ारिश की है कि एंटीबॉडी के स्तर को नहीं मापा जाना चाहिए।”

अगस्त में, एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने कहा था कि वर्तमान में यह सुझाव देने के लिए कोई निश्चित सबूत नहीं है कि उन लोगों को बूस्टर शॉट देने की आवश्यकता है जिन्हें पहले टीका लग चुका है।

Translate »