September 27, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

अफगानिस्तान छोड़ने के बाद अशरफ गनी आये सामने, कहा – मुल्क नहीं छोड़ता तो तालिबान मुझे मार देते

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी परिवार सहित संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में हैं। देश छोड़ने के चौथे दिन देर रात वे पहली बार दुनिया के सामने आए।

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति ने कहा कि मैं अगर देश छोड़कर नहीं आता तो खून-खराबा होता। मुझे भी फांसी पर लटका दिया जाता। मैं अपने देश में ऐसा होते नहीं देख सकता था इसलिए मुझे हटना पड़ा।

पैसे लेकर आने का आरोप बेबुनियाद

अशरफ गनी ने पैसे लेकर भागने के आरोपों पर भी सफाई देते हुए कहा कि मैं देश के पैसे लेकर नहीं आया हूं। ये आरोप बेबुनियाद हैं। मैं देश से किसी तरह का कैश लेकर नहीं निकला क्योंकि मुझे जूते पहनने तक का समय न था। मैं अपने कपड़े ही साथ लाया हूं। अपनी लाइब्रेरी साथ लाना चाहता था लेकिन ये भी मुमकिन नहीं हो सका।

तालिबान मुझे भी फांसी पर लटका देते

अशरफ गनी ने बताया कि तालिबान से हुए समझौते में साफ कहा गया था कि वो काबुल शहर के अंदर नहीं आएंगे लेकिन रविवार दोपहर मुझे मेरे गार्ड्स ने बताया कि तालिबान राष्ट्रपति महल की बाउंड्री वॉल तक पहुंच चुके हैं। अगर मैं अफगानिस्तान में रहता तो देश के लोग एक और राष्ट्रपति को सर-ए-आम फांसी के फंदे पर लटकते देखते।

सुरक्षा बल नहीं, इंटरनेशनल कम्युनिटी नाकाम रही

मैंने यूएई पहुंचने के बाद एक आम नागरिक की तरह कस्टम क्लियरेंस ली। हमारे सुरक्षा बल नाकाम नहीं रहे बल्कि देश के बड़े नेता और इंटरनेशनल कम्युनिटी नाकाम रही। मैं अपने मुल्क लौटना चाहता हूं और इसके लिए हामिद करजई और अब्दुल्ला अब्दुल्ला के संपर्क में हूं। यही लोग तालिबान से बातचीत कर रहे हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के बयानों पर गनी ने कहा कि हम तालिबान से बातचीत कर रहे थे लेकिन यह बेनतीजा रही। उन्होंने सेना और अधिकारियों को धन्यवाद भी किया।

Translate »