September 26, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

कोरोना की रैपिड एंटीजन टेस्टिंग किट के निर्यात पर रोक, केरल को मिले 267.35 करोड़ रुपये

कोरोना की तीसरी लहर की चिंता और डेल्टा प्लस वैरिएंट के बढ़ते मामलों के बीच केंद्र सरकार ने रैपिड एंटीजन टेस्टिंग किट (RAT) के निर्यात पर लगा दी गई है।

Credit Hindustan Times

डायरेक्टरेट जनरल ऑफ फॉरेन ट्रेड (DGFT) ने एक्सपोर्ट पॉलिसी में इस बदलाव की जानकारी देते हुए बताया कि कोरोना की जांच के लिए लैब में काम आने वाले केमिकल भी पाबंदी के दायरे में होंगे।

सटीक जानकारी के लिए RT-PCR और RAT जांच

देश में कोरोना की जांच के लिए शुरुआत से ही RT-PCR और RAT का बड़े स्तर पर इस्तेमाल होता रहा है। RT-PCR को कोरोना की जांच के लिए बेहतर माना जाता है। वहीं RAT का इस्तेमाल तुरंत परिणाम जानने के लिए किया जाता है हालांकि कोविड मरीज की रैपिड टेस्ट के बाद भी RT-PCR को वायरस की सटीक जानकारी के लिए बेहतर माना जाता है।

केंद्र सरकार ने केरल को दिया कोरोना पैकेज

केरल में प्रतिदिन कोरोना के मामले रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं इसी को देखते हुए केरल को कोरोना से लड़ने के लिए केंद्र सरकार ने 267.35 करोड़ रुपए का पैकेज देने की घोषणा की है।

सोमवार को केरल के दौरे पर गए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने इसका ऐलान किया। मंडाविया राज्य में कोरोना के हालात का जायजा लेने राजधानी तिरुवनंतपुरम पहुंचे। साथ ही मंडाविया ने केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन और राज्य की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज के साथ मीटिंग की और महामारी के खिलाफ राज्य की तैयारियों की जानकारी ली और राज्य के हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए इमरजेंसी कोविड रिस्पॉन्स पैकेज के तौर पर केंद्र सरकार ने 267.35 करोड़ रुपए देने का फैसला किया है। मंडाविया ने राज्यपाल आरिफ मोहम्मद से भी मुलाकात की।

You may have missed

Translate »