July 24, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

कैबिनेट का बड़ा फैसला, देश की 41 ऑर्डिनेंस फैक्टरियां चलाने वाला बोर्ड 7 कॉरपोरेट कंपनियों में बदलेगा

बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कैबिनेट बैठक में डिफेंस को लेकर बड़ा फैसला लिया है।

बैठक में सरकार ने ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड (OFB) को अलग-अलग कॉरपोरेट संस्थाओं में बांटने को मंजूरी दे दी है। बता दें अभी बोर्ड देश की 41 ऑर्डिनेंस फैक्ट्रियों को चलाता है जो रक्षा मंत्रालय से जुड़ा हुआ है।

रक्षा मंत्री ने बताया ऐतिहासिक

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस कदम को ऐतिहासिक बताया और कहा कि ये देश की सुरक्षा के लिए बेहद अहम है। आला अधिकारी के मुताबिक सरकार ने ये फैसला देश में सैन्य उपकरण और हथियार बनाने वाले सबसे बड़े बोर्ड की क्षमता बढ़ाने के लिए किया है। केंद्र सरकार लंबे समय से ये कदम उठाने के बारे में सोच भी रही थी।

पुरानी कमियों को दूर करना उद्देश्य

एक्सपर्ट ने बताया कि पिछले दो दशकों से कई हाईलेवल कमेटियों ने भी इस बात पर जोर दिया था कि OFB की कार्यप्रणाली में सुधार किया जाना चाहिए। साथ ही इसके तहत काम करने वाली फैक्ट्रियां भी आत्मनिर्भर होनी चाहिए।
एक्सपर्ट्स के मुताबिक, OFB का नया सेटअप इस साल के अंत तक तैयार हो जाएगा जिससे पुराने स्ट्रक्चर में जो कमियां थीं, वो नए सेटअप में दूर हो जाएंगी। जैसे बेअसर हो रही सप्लाई चेन को फायदा होगा। साथ ही नई 7 कंपनियों को प्रोत्साहन देकर इन्हें ज्यादा प्रतिस्पर्धी भी बनाया जाएगा।

आत्मनिर्भर भारत की दिशा में एक और कदम

एक अधिकारी के मुताबिक, आत्मनिर्भर भारत की दिशा
में उठाया गया ये एक बड़ा कदम है। ऐसा करने के लिए
डिफेंस प्रोडक्ट की क्वॉलिटी और परफॉर्मेंस में इजाफा
होगा। इस फैसले से OFB का अस्तित्व खत्म हो जाएगा और 7 कॉरपोरेट संस्थाएं गोला-बारूद, वाहन, हथियार, उपकरण, इलेक्ट्रॉनिक गियर, सेनाओं की जरूरत की चीजों की मैन्यूफैक्चरिंग करेंगी।

बता दें अभी ऑर्डिनेंस फैक्ट्रियां टैंक, बख्तरबंद वाहन, बारूदी सुरंगों से हिफाजत करने वाले वाहन, बम, रॉकेट, आर्टिलरी गन, एंटी-एयरक्राफ्ट गन, पैराशूट, छोटे हथियार के अलावा फौजियों के लिए कपड़े और लेदर इक्विपमेंट बनाती हैं।

Translate »