September 28, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

गैंगस्टर अंकित गुर्जर की मौत में बड़ा खुलासा, जेल से रिहा कैदी ने बताई आपबीती

बीते 4 अगस्त को दिल्ली की तिहाड़ जेल में गैंगस्टर अंकित गुर्जर की मौत के मामले में एक बड़ा खुलासा सामने आया है। तिहाड़ जेल से रिहा हुए एक कैदी ने पूरे मामले की जानकारी दी है। वह गवाह भी बन गया है। जिसको कोर्ट में पेश किया जाएगा।

तिहाड़ जेल में 2014 से विकास नाम का कैदी बंद था। तिहाड़ जेल प्रशासन ने विकास को जेल का सेवादार बना दिया था। विकास ने बताया कि, 3 अगस्त की शाम को 15 अगस्त को लेकर तिहाड़ जेल में चेकिंग चल रही थी। उसी दौरान तिहाड़ जेल की बैरक नंबर 3 की चेकिंग की गई तो उसमें एक मोबाइल और डाटा केबल बरामद हुआ। जो अंकित गुर्जर का था। अंकित गुर्जर भी बैरक नंबर 3 में ही बंद था।

विकास के मुताबिक, इसी दौरान अंकित गुर्जर से तिहाड़ जेल का डिप्टी सुपरिटेंडेंट नरेंद्र मीणा बात करने लगे थे। तभी नरेंद्र मीणा ने अंकित गुर्जर को थप्पड़ मार दिया। जिसके बाद सभी के सामने अंकित गुर्जर ने भी डिप्टी सुपरिटेंडेंट नरेंद्र मीणा को थप्पड़ जड दिया। जिसके बाद नरेंद्र मीणा जेल के अंकित गुर्जर को रिमांड रूम में बुलाया और जेल के सभी सीसीटीवी कैमरे बंद करवा दिए।

विकास का कहना है कि, जेल में अंकित गुर्जर की पिटाई की गई थी। इस दौरान उसकी हालत काफी ज्यादा बिगड़ गई तो अंकित गुर्जर को तिहाड़ जेल के ही अस्पताल में एडमिट करवाया गया, वहां पर उसकी हालत ज्यादा बिगड़ गई तो डॉक्टरों ने दूसरे अस्पताल में रेफर करवाने के लिए कहा, लेकिन तिहाड़ जेल प्रशासन ने उसको वापस जेल में डाल दिया। सुबह अंकित का शव जेल में पड़ा हुआ मिला था।

इस मामले में विकास का बयान पुलिस ने दर्ज कर लिया है। साथ ही विकास अदालत में भी गवाही के लिए प्रार्थनापत्र लगाएगा। अंकित गुर्जर की तिहाड़ जेल में हत्या के मामले में जेल के अधिकारियों पर एफआईआर दर्ज हुई है। इसके अलावा 4 जेल अधिकारी सस्पेंड भी किए गए है।

Translate »