April 11, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

दिल्ली एनसीआर में बड़े वाहन चोर गैंग का पर्दाफाश, जाने कैसे फैला है नोएडा, राजस्थान, बिहार और मध्य प्रदेश तक नेटवर्क

नोएडा पुलिस ने बुधवार को एक बड़े गैंग का पर्दाफाश किया है। यह गैंग दिल्ली एनसीआर समेत पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अभी तक सैकड़ों गाड़ियों को चुरा चुका है। पुलिस ने इस शातिर वाहन चोर गैंग का खुलासा करते हुए तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। जिसमें गैंग का सरगना भी शामिल है।
नोएडा पुलिस ने बताया कि, इस वाहन चोर गैंग का सरगना और मास्टरमाइंड वाहिद है। वाहिद को वाहन चोर डॉक्टर के नाम से भी जानते हैं। वाहिद लग्जरी गाड़ियों को चुराने में भी पीछे नहीं था। वह पूरे गैंग के साथ वारदात को अंजाम देता था। वाहिद की गैंग का एक सदस्य अंकुर चोरी ही गाड़ियों की फर्जी नंबर प्लेट बनाकर उत्तर प्रदेश के बाहर भेजता था और एक और साथी शुहेब वाहन चोरों को फर्जी सिम देता था। पुलिस ने इन तीनों शातिर वाहन चोर को नोएडा के सेक्टर 35 से गिरफ्तार किया है।
पुलिस ने बताया कि वाहन चोर वाहिद पर 50 से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं। पुलिस ने वाहिद पर 25 हजार रुपए का इनाम घोषित किया हुआ था। वाहिद ने अपना व्हाट्सएप नंबर सऊदी अरबिया के नाम से इंस्टॉल कर रखा था। इस व्हाट्सएप नंबर से ही वह अपने साथियों के साथ कनेक्ट होता था। वाहिद ने दो शादी की हुई थी। वह अपनी दोनों बीवियों को अलग-अलग स्थानों पर रखता था।
पुलिस जांच में पता चला कि वाहिद दिल्ली एनसीआर समेत 8 स्थानों पर किराए के कमरे लेकर रह रहा था। वह कभी एक जगह नहीं टिकता था। वह कभी कहीं और तो कभी कहीं और अपना ठिकाना बनाता था। वाहिद ने धीरे धीरे अपने गैंग को सक्रिय किया। इसके बाद पवन और कमरुद्दीन नामक दो लोगों को भी अपने गैंग में शामिल कर लिया। इस गैंग में दानिश और इमरान चोरी की गाड़ी को उत्तर प्रदेश से बाहर भेजने में मदद करते थे।
इनमें दानिश की मेरठ में कबाड़ी की दुकान है। जो चोरी की गाड़ियों के पार्ट को काटकर हरियाणा, राजस्थान, हापुड़, बिहार, मध्य प्रदेश आदि स्थानों पर इरफान के साथ मिलकर भेज देता था। अभी इस गैंग के तीन लोगों को ही गिरफ्तार किया गया है। बाकी 4 लोग अभी फरार हैं। जिनकी पुलिस तलाश कर रही है। पुलिस ने बुधवार को उनके कब्जे से चार गाड़ियां बरामद की हैं। इसके अलावा काफी सारी नंबर प्लेट और सिम भी बरामद की है।
Translate »