December 2, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 के पहले भाजपा ने अपने 30 लाख बूथ कार्यकर्ताओं को भेजा उपहार

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर बीजेपी ने ग्राउंड जीरो की तैयारियां शुरू कर दी है। जिसके तहत बीजेपी इस बार दीपावली में अपने 30 लाख बूथ कार्यकर्ताओं को दीपावली की उपहार भेजी है।

 

 

बीजेपी ने उपहार भेज कर एक तरह से आगामी विधानसभा चुनाव के लिए बूथ को और मजबूत करने का काम किया है। आपको बताता चलूं कि इससे पहले 2017 में उस वक्त रहे बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी बूथ के कार्यकर्ताओं और बूथ के वोट की मजबूती के लिए जोरों-सोरों से कार्य किया था।

बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं के घर जाकर अमित शाह ने खाना खाकर और उनके साथ वक्त बिता कर उनके साथ एक पारिवारिक माहौल और रिश्ता जोड़ने का कार्य किया था। साथ ही अमित शाह ने प्रदेश के हर क्षेत्र के बूथ पर जाकर बूथ कार्यकर्ताओं को संबोधित करने का भी कार्य किया था।

 

उपहार के पैकेट खोलने पर कार्यकर्ताओं को मिला ये

आने वाले शुक्रवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ आ रहे हैं। जिस दौरान उनकी सभा भी आयोजित की गई है। राज्य में 1लाख 63 हजार बूथ है। जिसमें दुनिया की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी भाजपा ने 20-20 सदस्यों की कमेटी करीबन डेढ़ लाख से अधिक वोटों पर की है। उत्तर प्रदेश में भाजपा के पास करीबन 30 लाख से अधिक बूथ कार्यकर्ता हैं। पार्टी ने बूथ कमेटी के हर एक सदस्य को यह दीपावली का उपहार भेजा है। उपहार के हर पैकेट में तोरण द्वार और कमल दीप है, दीप कमल के आकार का बना हुआ है जो कि मिट्टी का है कमल का इसलिए भी बना हुआ है क्योंकि भाजपा का चुनाव चिन्ह कमल है।

 

पाठक ने बताई उपहार के पीछे की कहानी

भाजपा के प्रदेश इकाई के उपाध्यक्ष और विधान परिषद सदस्य विजय बहादुर पाठक ने गुरुवार को से कहा कि हम सब एक साथ काम करते हैं और बूथ कार्यकर्ता भाजपा परिवार की सबसे महत्वपूर्ण कड़ी है। हमारे देश में दीपावली पर उपहार देने की परंपरा रही है। इसलिए पार्टी ने 30 लाख से अधिक बूथ कार्यकर्ताओं को दीपावली का उपहार भेजा है,क्योंकि भाजपा का हर एक कार्यकर्ता भाजपा का अपना परिवार है।

पाठक से जब पूछा गया कि क्या उपहार के जरिए भी चुनाव प्रचार हो रहा है तो उन्होंने कहा कि पार्टी का पूरा ध्यान 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव पर है और चुनाव चिह्न जन-जन के बीच ले जाना स्वाभाविक प्रक्रिया है। कमल का दीपक जलेगा तो न केवल अंधेरा मिटेगा बल्कि यह विश्वास भी मजबूत होगा कि मोदी और योगी सरकारों ने विकास योजनाओं की जो कड़ी शुरू की है। उस श्रृंखला को और आगे बढ़ाया जाएगा और उन्हें तेजी से पूरा किया जाएगा।

 

बूथ कार्यकर्ताओं के दम पर 2017 जीती थी बीजेपी

भारतीय जनता पार्टी ने 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले अखिलेश यादव की सपा सरकार के खिलाफ परिवर्तन की मुहिम शुरू की थी और राज्य में चार दिशाओं से परिवर्तन यात्राएं निकालकर अपना संकल्प दोहराया था। 2017 के चुनाव में पार्टी ने बूथ कार्यकर्ताओं और अपने संकल्प शक्ति से 403 में से 325 सीटों पर विजय होकर सत्ता में अपनी जगह बनाई थी। एक बार फिर उसी मुहिम के तहत पार्टी अपने बूथ कार्यकर्ताओं को तैयार कर रही है। जिसके तहत उन्हें उपहार भेजा जा रहा है और राजनीतिक विश्लेषकों की मानें तो भाजपा का यह बूथ प्रबंधन ही 2017 के विजय का कारण बना था।

Translate »