September 27, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

तालिबान पर समाजवादी पार्टी के MP के बयान पर बीजेपी का हमला, कहा इमरान खान से कम नहीं ये नेता

अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान के क़ब्ज़े को लेकर समाजवादी पार्टी के सांसद शफ़ीकुर रहमान बरक की टिप्पणी की मंगलवार को भाजपा ने कड़ी आलोचना की।

 

 

बरक ने एक प्रकार से तालिबान के क़ब्ज़े को मान्यता देते हुए कहा था कि, “वे स्वतंत्र होना चाहते हैं। यह उनका निजी मामला है। हम कैसे हस्तक्षेप कर सकते हैं?”

उनकी टिप्पणी पर मंगलवार को उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की। उन्होंने बरक के बयान की तुलना काबुल पर तालिबान के क़ब्ज़े के बाद आई पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की टिप्पणी से की।

बरक ने तालिबान को एक ऐसी ताक़त कहा जिसने रूस या संयुक्त राज्य अमेरिका को अफ़ग़ानिस्तान में खुद को स्थापित करने की अनुमति नहीं दी, और अब वे अपना देश चलाना चाहते हैं। यही नहीं बरक ने भारत की आज़ादी की लड़ाई की तुलना तालिबान से कर डाली, उन्होंने कहा कि, ‘जब भारत ब्रिटिश शासन के अधीन था, तब पूरा देश आज़ादी के लिए लड़ता था। वे मुक्त होना चाहते हैं। यह उनका निजी मामला है। हम कैसे हस्तक्षेप कर सकते हैं?’

तालिबान के क़ब्ज़े का समर्थन करते हुए बरक ने कहा कि वे अपना देश अपनी मर्ज़ी से चलाना चाहते हैं।

इसकी तीखी आलोचना करते हुए डिप्टी सीएम मौर्य ने कहा कि उन्होंने व्यक्तिगत रूप से उन्हें नहीं सुना है। लेकिन अगर इस तरह का बयान दिया गया है तो उस व्यक्ति और इमरान खान में कोई अंतर नहीं है।

दरअसल पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने सोमवार को तालिबान के काबुल पर क़ब्ज़े का समर्थन करते हुए कहा कि अफ़ग़ानिस्तान ने “गुलामी की बेड़ियों” को तोड़ दिया है।

डेप्युटी सीएम मौर्य ने लखनऊ में राज्य विधानसभा के बाहर कहा, “समाजवादी पार्टी में कुछ भी हो सकता है। ऐसे लोग हैं जो जन गण मन नहीं गा सकते हैं, कोई तालिबान का समर्थन कर सकता है, अन्य आतंकवादी पकड़े जाने के बाद पुलिस पर आरोप लगा सकते हैं। यह तुष्टिकरण है।”

Translate »