September 28, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

आंध्र प्रदेश सरकार ने आख़िरकार माना ऑक्सीजन की कमीं से हुई थी कोरोना मरीज़ों की मौत

कोरोना की दूसरी लहर में देश के भीतर ऑक्सीजन की भारी कमीं देखी गई जिसके कारण लाखों लोगों ने अपनी जान गँवाई। हालांकि केंद्र सरकार ने बीते दिनों ये कहकर सभी को चौंका दिया कि देश में ऑक्सीजन की कमीं से कोई मौत नहीं दर्ज की कई। लेकिन अब आख़िरकार केंद्र सरकार ने ये बाद स्वीकार की कि महामारी की दूसरी लहर के बीच ऑक्सीजन की कमीं के चलते मारीज़ों की मौत हुई है।

 

REUTERS

 

ग़ौरतलब है कि केंद्र सरकार ने संसद के ऊपरी सदन राज्यसभा के एक अतारांकित सवाल के जवाब में आंध्र प्रदेश सरकार के एक पत्राचार के हवाले से कहा कि 10 मई को राज्य के चित्तूर ज़िले में वेंटीलेटर वाले मरीज़ों की मौत ऑक्सीजन की कमी से हुई थी।

मंगलवार को केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री ने सदन को बताया कि 9 अगस्त के आंध्र प्रदेश सरकार पत्र के मुताबिक़, 10 मई 2021 को श्री वेंकटेश्वर रामनारायण रुइया (SVRR) अस्पताल में इलाजरत कुछ कोविड मरीज़ जो वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे, जिनकी मौत हो गई थी।

समाचार एजेंसी एनडीटीवी के अनुसार, “लिखित जवाब में कहा गया है कि इस घटना की प्रारंभिक जांच के अनुसार ऐसा प्रतीत होता है कि 10KL ऑक्सीजन टैंक के समतलीकरण और अस्पताल के बैकअप मैनिफ़ोल्ड सिस्टम को चालू करने के बीच के अंतराल में ऑक्सीजन सप्लाई के प्रेशर में कमी आई और उसकी वजह से यह हादसा हुआ।”

केंद्रीय मंत्री ने एक सवाल के जवाब में कहा कि ‘स्वास्थ्य राज्य का विषय है लेकिन COVID-19 महामारी से निपटने और मौजूदा स्वास्थ्य बुनियादी ढाँचा को मज़बूत करने के लिए भारत सरकार ने राज्यों को आवश्यक तकनीकी सहायता प्रदान की है और राज्यों को रसद और वित्तीय सहायता के माध्यम से समर्थन भी दिया है।’

 

 

इसके अलावा अपने इस लिखित जवाब में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ‘केंद्र सरकार ने गैर-कोविड ​​​​रोगियों के साथ-साथ क्रॉस संक्रमण के जोखिम को कम करने के इरादे से देश में गैर-कोविड आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं की निरंतरता बनाए रखने के लिए देश में त्रि-स्तरीय समर्पित कोविड-19 स्वास्थ्य सुविधाओं की व्यवस्था लागू किया है।’
इसके तहत (i) कोविड केयर सेंटर (सीसीसी); (ii) समर्पित COVID स्वास्थ्य केंद्र (DCHC) और (iii) समर्पित COVID अस्पताल (DCH) बनाए गए हैं।

बता दें कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान 10 मई, 2021 को आंध्र प्रदेश के चित्तूर ज़िले के श्री वेंकटेश्वर रामनारायण रुइया सरकारी अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से 23 मरीज़ों की मौत हो गई थी।

Translate »