September 26, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

केंद्र सरकार ने राज्यों से कहा कोरोना के मद्देनज़र त्योहारों से पहले लगाएँ स्थानीय प्रतिबंध

भारत सरकार ने राज्य के अधिकारियों से देशभर में त्योहारों से पहले प्रतिबंध लगाने के लिए कहा है, यह चेतावनी देते हुए कि भीड़भाड़ से “सुपर स्प्रेडर” घटनाएं हो सकती हैं और संक्रमण में एक नया उछाल आ सकता है।

 

 

भारत में जुलाई से हर दिन औसतन 30 हज़ार से 40 हज़ार नए कोरोनो मामले दर्ज किए जा रहे हैं। इसके चलते केंद्र सरकार ने चेतावनी दी है कि हालांकि दूसरी लहर के चरम पर 4 लाख के क़रीब रोज़ाना मामले सामने आ रहे थे और उससे हालात अब काफ़ी बेहतर हैं और ख़तरा अभी कम नहीं हुआ है।

संघीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा, “इंडियन काउंसिल फ़ॉर मेडिकल रिसर्च (ICMR) बुधवार देर रात जारी राज्य सरकारों को पत्र में चेताया कि भारत में त्योहारों का मौसम इस महीने से शुरू हो रहा है, जिसमें कई समारोह शामिल हैं और इससे कोरोना तेज़ी से फैल सकता है।

अप्रैल और मई में हज़ारों लोगों की जान लेने वाली विनाशकारी दूसरी लहर से आहत, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने यह कहते हुए कि दूसरी लहर अभी ख़त्म नहीं हुई है, राज्यों को इस बार अपने कड़े लॉकडाउन को खोलने के दौरान सतर्क रहने के लिए कहा है। पश्चिमी राज्य महाराष्ट्र, जो दूसरी लहर से सबसे अधिक प्रभावित था, ने पिछले महीने प्रतिबंधों में काफ़ी ढील दी है।

महाराष्ट्र अब भी केरल के बाद देश में दूसरे सबसे ज़्यादा केसों की रिपोर्ट दर्ज कर रहा है। एक शीर्ष सरकारी सलाहकार विनोद कुमार पॉल ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, “जहां भी क्लस्टर हैं, वहां नियंत्रण क्षेत्र होना चाहिए।” जुलाई में लगभग 129 मिलियन लोगों को टीका लगाया गया था, लेकिन अगर सरकार को वर्ष के अंत तक 950 मिलियन भारतीय वयस्कों का टीकाकरण करने के अपने घोषित लक्ष्य को पूरा करना है, तो इसकी गति तेज़ करनी होगी।

बता दें गुरुवार को, भारत ने पिछले 24 घंटों में COVID-19 के 42,982 नए मामले और 533 मौतों की सूचना दी।

Translate »