October 24, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

चीन ने अफ़ग़ानिस्तान के राजनीतिक दलों से किया आतंकवाद ख़त्म करने का आग्रह, अमेरिका पर कसा तंज़

समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने शुक्रवार को कहा कि चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अफ़ग़ानिस्तान के कुछ “प्रासंगिक दलों” से आतंकवाद को ख़त्म करने का आग्रह किया और साथ ही युद्धग्रस्त देश की और अधिक सहायता करने का वादा किया।

 

Credit- REUTERS

 

चीन अफ़ग़ानिस्तान के साथ अपनी सीमा साझा करता है। अमेरिकी सेना के 20 साल बाद वापस लौटने की घोषणा के साथ ही देश में उथलपुथल शुरू हो गई और फिर 15 अगस्त को इस्लामी चरमपंथी समूह तालिबान ने यहाँ कब्ज़ा कर लिया।

शिन्हुआ ने एक रिपोर्ट में कहा कि अफ़ग़ानिस्तान को अधिक खुले और समावेशी होने के लिए निर्देशित किया जाना चाहिए, और मॉडरेट घरेलू और विदेशी नीतियों का पालन करना चाहिए। शी ने बात शंघाई सहयोग संगठन और एक अन्य क्षेत्रीय समूह के नेताओं की बैठक में कही।

शी ने संयुक्त राज्य अमेरिका और उसके सहयोगियों के लिए स्पष्ट स्पष्ट रूप से कहा, “कुछ देशों” को अफ़ग़ानिस्तान के भविष्य के विकास के लिए अपनी उचित ज़िम्मेदारियों को स्थिति को “उकसाने वाले” के रूप में स्वीकार कर लेना चाहिए।

विशेषज्ञों का कहना है कि अफ़ग़ानिस्तान की अर्थव्यवस्था संकट में है और मानवीय आपदा आने वाली है। इसका एक बड़ा कारण है कि पश्चिमी देश तालिबान को बिना किसी आश्वासन के धन मुहैया कराने से हिचकते रहे हैं। वे इस बात पर आश्वासन चाहते हैं कि अफ़ग़ानिस्तान मानवाधिकारों, ख़ासकर महिलाओं के अधिकारों को कायम रखेगा।

चीन, जिसने अफ़ग़ानिस्तान को सहायता और COVID-19 वैक्सीन की ख़ुराक़ देने का वादा किया है, ने कहा है कि संयुक्त राज्य अमेरिका और उसके सहयोगियों का कर्तव्य है कि वे अफ़ग़ानिस्तान को आर्थिक और मानवीय सहायता दें।

ग़ौरतलब है कि चीन अपने सुदूर पश्चिमी क्षेत्र शिनजियांग के आतंकवादियों के बारे में भी चिंतित है, जिनमें से कुछ अफ़ग़ानिस्तान में स्थित हैं, जहां वे लंबे समय से तालिबान के सहयोगी रहे हैं।

Translate »