April 11, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

राफ़ेल पर एक बार फिर विवाद, आरोप,भारतीय बिचौलिए को फ़्रेंच कंपनी ने दिए एक मिलीयन यूरो!

राफ़ेल डील एक बार फिर विवादों में घिरती नज़र आ रही है। फ़्रांस के एक पब्लिकेशन ने दावा किया है कि इस सौदे के दौरान दसॉ को भारतीय बिचौलिये को गिफ़्ट के तौर पर एक मिलियन यूरो देने पड़े थे। इस ख़ुलासे के चलते एक बार फिर दोनों देशों की यह फ़ाइटर जेट डील सवालों के घेरे में है।

Rafale Jet
फ़्रांस की एक पब्लिकेशन ‘मेडियापार्ट’ ने अपनी एक रिपोर्ट में यह दावा किया है कि जब भारत-फ़्रांस के बीच यह समझौता हुआ था तब दसॉ ने भारत के एक बिचौलिये को एक रक़म दी थी। साल 2017 में दसॉ ग्रुप के अकाउंट से 508925 यूरो ‘गिफ्ट टू क्लाइंट्स’ के बतौर ट्रांसफर किये गए थे।
फ्रांस की एंटी करप्शन एजेंसी AFA द्वारा दसॉ के खातों के ऑडिट करने पर इस बात का ख़ुलासा हुआ। मीडियापार्ट की रिपोर्ट के मुताबिक़, ख़ुलासा होने पर दसॉ ने अपनी सफ़ाई में कहा था कि इन पैसों का इस्तेमाल राफ़ेल लड़ाकू विमान के 50 बड़े ‘मॉडल’ बनाने में हुआ था लेकिन वास्तव में ऐसे कोई मॉडल बने ही नहीं थे।
इस रिपोर्ट का दावा है कि ऑडिट की ये बात सामने आने के बाद भी एजेंसी ने कोई एक्शन नहीं लिया, जो फ्रांस के राजनेताओं और जस्टिस सिस्टम के बीच की मिलीभगत को भी दिखाता है।
एजेंसी ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि दसॉ ग्रुप द्वारा गिफ़्ट की गई राशिका बचाव किया गया। रिपोर्ट में कहा गया कि भारतीय कंपनी ‘Defsys Solutions’ के इनवॉयस से ये दिखाया गया कि जो 50 मॉडल तैयार हुए, उसकी आधी राशि उन्होंने दी थी। हर एक मॉडल की कीमत करीब 20 हजार यूरो से अधिक थी।
हालाँकि इनसब पर दसॉ ने चुप्पी साध रखी है और एजेंसी को कोई जवाब नहीं दिया है। वह नहीं बता सका है कि उसने भारत में यह राशि किसे और क्यों दी है। बता दें कि इस रिपोर्ट में जिस भारतीय कंपनी का नाम लिया गया है वह पहले भी विवादों से घिरी रही है। रिपोर्ट के मुताबिक़, कंपनी का मालिक पहले ‘अगस्ता वेस्टलैंड’ घोटाले के केस में जेल भी जा चुका है।
ख़बर है कि इस ममले कि जाँच तीन हिस्सों में कई जा रही है, जिससे जुड़ा सबसे बड़ा ख़ुलासा इसके तीसरे हिस्से में होने की आशंका है।
आपको बता दें कि 2016 में भारत ने फ़्रांस से राफ़ेल समझौते के तहत 36 विमान मंगाये थे, जिसमें से एक दर्ज़न भारत को मिल गए हैं और बाक़ी 2022 तक मिलेंगे। इस डील के सामने आते ही इसपर भरष्टाचार के आरोप लगते रहे हैं।
Translate »