December 2, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

1 नवंबर से खुल जाएंगे दिल्ली में सभी स्कूल मनाई जाएगी छठ महापर्व: दिल्ली उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया

दिल्ली सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए कोरोना के कारण सभी बंद स्कूलों को पूरी तरह से खोलने का फैसला लिया है। दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि 1 नवंबर से सभी स्कूल खोले जा रहे हैं। साथ ही स्कूल खोलने से पेरेंट्स को उनके बच्चों को स्कूल भेजने के लिए बाध्य नहीं किया जाएगा।

 

Manish Sisodia/twitter

 

स्कूलों में पढ़ाई ब्लेंडेड मोड यानी कि ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों चलेंगे। एक बार में 50 फ़ीसदी से ज्यादा बच्चों को स्कूल में नहीं बुलाया जाएगा। साथ ही स्कूल को सुनिश्चित करना होगा कि उनके सभी स्टाफ वैक्सीन ले चुके हैं, 98 प्रतिशत को पहली डोज लग चुकी हो।

इस घोषणा का मतलब है कि अब नर्सरी से लेकर आठवीं कक्षा तक के बच्चे भी स्कूल जा सकेंगे। आपको बता दें कि कोरोना महामारी के कारण मार्च 2019 से ही सभी स्कूल बंद पड़े हैं। इससे पहले जनवरी 2021 में 9वीं से बारहवीं कक्षा के छात्रों के लिए स्कूल खोला गया था, लेकिन अब संपूर्ण रुप से स्कूली कक्षा की पढ़ाई 1 नवंबर 2021 से शुरू हो जाएगी।

आइए आपको बताते हैं कि आखिर स्कूल को कैसे चलाया जाएगा। सबसे पहले तो मॉर्निंग और इवनिंग शिफ्ट वाले बच्चों के बीच में कम से कम 1 घंटे का फासला रखा जाएगा। सोशल डिस्टेंसिंग के अलग-अलग फार्मूले के तहत क्लास में 50 फ़ीसदी बच्चे ही शामिल हो सकेंगे। बच्चे अपना खाना, किताब तथा अन्य स्टेशनरी सामान एक दूसरे से साझा नहीं कर सकेंगे।

लंच ब्रेक का खासा ध्यान रखा गया है जिसमें ओपन एरिया में अलग-अलग जगहों पर इसकी व्यवस्था करने की निर्देश जारी की गई है ताकि अचानक से भीड़ इकट्ठा ना हो सके। इसमें सबसे महत्वपूर्ण बात यह होगी कि स्कूल बुलाने से पहले बच्चों के माता-पिता की मंजूरी बेहद जरूरी होगी। जो भी अभिभावक अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजना चाहते हैं उन्हें बाध्य नहीं किया जा सकेगा।

आगे दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा की छठ पूजा करने की अनुमति दे दी गई है। दिल्ली के सार्वजनिक स्थल पर छठ पूजा मनाई जा सकेगी। जिसके लिए कोरोनावायरस पालन किया जाएगा और कुछ सख्त नियम भी लगाए जाएंगे इससे पहले दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट ने 30 सितंबर को आदेश जारी कर नदी किनारे और सार्वजनिक जगहों पर छठ पूजा को लेकर मना ही कर दी थी।

जिसके विरोध में बीजेपी के सांसद मनोज तिवारी ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के घर के बाहर प्रदर्शन किया था और इस प्रदर्शन में वह वाटर चैनल से घायल भी हो गए थे।

Translate »