September 27, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

ग्रेटर नोएडा में आपसी रंजिश के चलते अंतिम वारिस की हत्या, माता-पिता और भाई की पहले ही हो गई मौत

ग्रेटर नोएडा के चक्रसैनपुर गांव के निवासी अमित भाटी का पूरा परिवार आपसी रंजिश में खत्म हो गया है। बुधवार को परिवार के अंतिम व्यक्ति अमित भाटी को गोलियों से भूनकर मौत के घाट उतार दिया है।

इस मामले के बाद ग्रामीणों ने खूब हंगामा किया। शव को काफी समय तक सड़क पर रखकर पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है। ग्रेटर नोएडा के डीसीपी अभिषेक ने इस मामले में पूरी जांच और आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए 3 टीमें गठित की है।

ग्रेटर नोएडा में स्थित चक्रसैनपुर गांव के रहने वाले 35 साल के अमित भाटी पर ग्रेटर नोएडा के ईस्टर्न पेरीफेरल पास के पास बदमाशों ने ताबड़तोड़ फायरिंग की। बदमाश स्कॉर्पियो गाड़ी में सवार है। बदमाशों ने अमित भाटी की स्विफ्ट गाड़ी को चारों तरफ से घेर लिया और उस पर गोली चलाना शुरु कर दिया। इस दौरान अमित भाटी को 3 गोलियां लगी। आनन-फानन उसको ग्रेटर नोएडा के एक प्राइवेट अस्पताल में ले जाया गया। जहां पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

ग्रेटर नोएडा के डीसीपी अभिषेक का कहना है कि, पुलिस ने अमित भाटी के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। प्राथमिक जांच में पता चला है कि अमित भाटी अपने परिवार का अंतिम व्यक्ति बचा था। पुरानी रंजिश में पूरे परिवार खत्म हो चुका है। करीब 6 साल पहले अमित भाटी के पिता की मौत हो चुकी है। बड़े भाई की हत्या भी कुछ साल पहले दादरी कचहरी में दिनदहाड़े कर दी गई थी। उसकी मां की कोरोना काल के दौरान मौत हो गई। अमित भाटी की अभी तक शादी नहीं हुई थी।

परिजनों ने बताया कि अमित की अभी शादी नहीं हुई थी और वह गांव में ही खेती करता था। करीब 6 महीने पहले भी आरोपियों ने अमित को गोली मार दी थी, जिसमें वह बच गया था। अमित का बड़ा भाई राका उर्फ अशोक की भी दादरी कचहरी में हत्या कर दी गई थी। जांच में पता चला है की मृतक अमित पर काफी आपराधिक मुकदमे दर्ज है। अमित पर जानलेवा हमला, बलवा, गुंडा अधिनियम समेत दर्ज 5 मुकदमे दर्ज है।

Translate »