January 21, 2022

MotherlandPost

Truth Always Wins!

पर्यवेक्षकों के साथ चुनाव आयोग की बैठक आज, जानिए क्यों होती है हर चुनाव के पहले ये ज़रूरी मीटिंग

शुक्रवार के दिन चुनाव आयोग उन पर्यवेक्षकों(observers) के साथ वर्चुअल बैठक करेगा, जिन्हें पांच राज्यों में चुनाव के लिए तैनात किया जाएगा।

 

Credit- Economics times

 

पोल पैनल के शीर्ष अधिकारी चुनाव ड्यूटी के दौरान विभिन्न सामान्य, पुलिस और व्यय पर्यवेक्षकों(expenditure observers) को उनकी भूमिकाओं और ज़िम्मेदारियों के बारे में जानकारी देंगे।

बता दें कि उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, मणिपुर और गोवा में विधानसभा चुनाव 10 फरवरी से 7 मार्च के बीच होंगे और मतों की गिनती 10 मार्च को होगी। पर्यवेक्षकों को विभिन्न सेवाओं जैसे आईएएस, आईपीएस, आईआरएस और विभिन्न एकाउंट सर्विसेस के लिए तैयार किया जाता है।

आयोग आमतौर पर मतदान कार्यक्रम की घोषणा के बाद सौंपी गई भूमिकाओं के बारे में पर्यवेक्षकों को जानकारी देता है। ब्रीफिंग के दौरान, चुनाव आयोग के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा पर्यवेक्षकों को चुनाव प्रबंधन के विभिन्न पहलुओं के बारे में व्यापक जानकारी दी जाती है।

इससे अलग, आयोग शनिवार को भौतिक चुनावी रैलियों, रोड शो और पद यात्राओं पर अपने प्रतिबंध को जारी रखने पर चर्चा कर सकता है।

दरअसल 8 जनवरी को पांच राज्यों में चुनाव की घोषणा करते हुए, चुनाव आयोग ने COVID-19 के प्रसार को रोकने के लिए इस तरह के शारीरिक आयोजनों पर 15 जनवरी तक प्रतिबंध लगा दिया था।

Translate »