Wednesday, August 3, 2022

MOTHER LAND POST

MOTHERLANDPOST

इंजीनियरों ने निकाला रास्ता,मात्र 9 मिनट में ध्वस्त होगा ट्विन टावर, एक्सप्रेस पर रहेंगे बंद

by Sachin Singh Rathore
0 comment

सुप्रिम कोर्ट के आदेश के बाद नोएडा के सेक्टर 93 ए में स्थित सुपरटेक एमराल्ड कोर्ट सोसाइटी में बने ट्विन टावर को ध्वस्त करने की तैयारियां तेजी से चल रही हैं। तमाम मुश्किलों के बीच इंजीनियरों के लिए ट्विन टावर को ध्वस्त करना काफी मुश्किल साबित हो रहा था लेकिन सबकुछ ठीक रहा तो विस्फोट के जरिए दोनों टावर महज 9 सेकेंड में ध्वस्त हो जाएंगे। करीब 100 मीटर दूर से रिमोर्ट दबाकर इन्हें ध्वस्त किया जाएगा। विस्फोट से हुए धूल के कारण काफी दूर तक 30 मिनट तक धूल फैले रहेंगे। धूल उड़ने से रोकने के लिए बड़े स्तर पर पानी से छिड़काव किया जाएगा। इस दौरान आसपास की तीन सोसाइटी के फ्लैट खरीदारों को करीब 5 घंटे तक बाहर रहना होगा। शाम तक लोग अपने फ्लैटों में लोग वापस लौट सकेंगे।

मिली जानकारी के मुताबिक ध्वस्तीकरण वाले दिन आसपास के फ्लैटों को कोई नुकसान नहीं होगा, लेकिन फिर भी 100 करोड़ का बीमा कराया जा रहा है। अभी टावर में विस्फोटक लगाने के लिए काम जोरों शोरो से चल रहा है। अभी तक 22 मई 2022 को टावर के ध्वस्तीकरण की योजना है। अब देखने वाली बात यह होगी कि आखिर किस तरह से तमाम सुरक्षा को मद्देनजर रखते हुए इस ट्विन टावर को गिराया जाता है।

आधा घंटे तक एक्सप्रेस-वे को बंद रखने की योजना है

ध्वस्तीकरण की प्रक्रिया के दौरान करीब 30 मिनट तक नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस वाहनों के लिए बंद रहेगा। अगर बात इतिहास की करें तो अभी तक देश में इतने ऊंचे टावर कहीं भी ध्वस्त नहीं किए गए हैं। ये 102 मीटर ऊंचे टावर हैं। अधिकारियों ने जानकारी दी है कि एक्सप्रेसवे तक विस्फोट के दौरान कोई भी निर्माण सामग्री नहीं पहुंचेगी, लेकिन एतिहयात के तौर पर इसे बंद रखा जाएगा। अधिकारियों को डर है कि विस्फोट के दौरान लोग देखने के लिए एक्सप्रेस वे पर खड़े हो सकते हैं। जिस कारण कोई भी अप्रिय घटना होने की आशंका है। जिसके वजह से उस दिन एक्सप्रेस पर को बंद रखा जाएगा।

ट्विन टावर को गिराने से पहले ट्रायल ब्लास्ट होगा

सोसाइटी में बने ट्विन टावर अभी तक 22 मई 2022 को गिराए जाने प्रस्तावित हैं। फाइनल ध्वस्तीकरण से पहले इस महीने के अंत या अप्रैल के पहले सप्ताह में ट्रायल ब्लास्ट किया जाएगा। अधिकारियों ने बताया है कि यह ब्लास्ट एक टावर में बी-1 बेसमेट और दूसरे टावर में 14 वीं मंजिल पर होगा। इस ब्लास्ट में करीब एक ट्रक कांक्रीट का इस्तेमाल होगा। 6-7 बार धमाके होंगे और 9 सेकेंड में टावर गिरा दिए जाएंगे। पिछले 22 दिन से ट्विन टावर में करीबन 300 मजदूर अलग-अलग तल पर तोड़फोड़ के काम में लगे हुए हैं। ताकि विस्फोट के बाद सही दिशा में बिल्डिंग को ध्वस्त किया जाए। और टावर के गिरने की दिशा निर्धारित दिशा की ओर ही हो।

About Post Author