September 24, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

फ़ेसबुक ने किया तालिबान को बैन, वॉट्सऐप पर भी लगी रोक

दुनियाभर में इस वक़्त तालिबान की आलोचना हो रही है और साथ ही अफ़ग़ानिस्तान के भविष्य को लेकर अनिश्चितता भी जताई जा रही है। इस बीच सोशल नेटवर्किंग साइट फ़ेसबुक ने घोषणा की है कि उसने अपने अभी प्लैटफॉर्म्स पर तालिबान और उससे जुड़ी सामग्रियों को बैन कर दिया है।

 

Reuters

 

फ़ेसबुक का कहना है कि चूँकि अमेरिका में तालिबान एक आतंकवादी संगठन के रूप में घोषित है इसलिए वह भी इसे आतंकवादी संगठन ही मानता है।

दरअसल तालिबान के इतनी तेज़ी से बढ़ते प्रभाव के बीच तकनीकी कंपनियों के लिए उनसे जुड़ी सामग्री का प्रबंधन एक चुनौती बन गया है।

इस बाबत फ़ेसबुक कहता है कि उसके पास अफ़ग़ान विशेषज्ञों की एक पूरी टीम है जो कि इस संगठन से जुड़ी सामग्री पर नज़र रखती है और उसे हटाती है।
फ़ेसबुक के एक प्रवक्ता ने समाचार एजेंसी बीबीसी से कहा, “अमेरिकी क़ानून के तहत तालिबान एक आतंकवादी संगठन है और हमने अपनी ख़तरनाक संगठन की नीतियों के तहत उन्हें बैन कर दिया है।”

प्रवक्ता ने बताया कि इसका अर्थ है कि फ़ेसबुक तालिबान के एकाउंट्स और सामग्रियां हटा देगा और इसपर उनकी प्रशंसा, सहयोग या प्रतिनिधित्व को भी रोकेगा।

ग़ौरतलब है कि फ़ेसबुक का कहना है कि तालिबान पर उसकी ये नीति फ़ेसबुक ही नहीं बल्कि उसके अन्य प्लेटफ़ॉर्म यानी वॉट्सऐप और इंस्टाग्राम पर भी लागू होती है।

यह बात पहले सामने आ चुकी है कि तालिबानी वॉट्सऐप पर बातचीत किया करते थे।
इसपर फेसबुक ने कहा है कि अगर उसे वॉट्सऐप पर इस संगठन से जुड़े अकाउंट मिले तो वह उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई करेगी।

बता दें कि बीते दिनों सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म्स जैसे ट्विटर और यूट्यूब भी तालिबान से जुड़ी सामग्री के चलते आलोचना का शिकार हुए हैं।

Translate »