September 27, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

करनाल में किसानों के संघर्ष का दूसरा दिन, बढ़ाया गया इंटरनेट पर लगा प्रतिबंध

करनाल में प्रशासन के 28 अगस्त के आंदोलन से निपटने के ख़िलाफ़ किसानों का विरोध प्रदर्शन दूसरे दिन में प्रवेश कर चुका है। भारतीय किसान संघ (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि कुछ स्पष्टीकरण की पेशकश की गई है और भविष्य की कार्रवाई पर बातचीत भी की जा रही है।

 

HT

 

सैकड़ों किसानों ने अपने नेताओं के साथ मंगलवार को हरियाणा के करनाल मिनी सचिवालय के मुख्य द्वार पर रात बिताई और ये स्पष्ट किया कि जब तक करनाल के पूर्व एसडीएम आयुष सिन्हा के ख़िलाफ़ कार्रवाई की उनकी मांग को स्वीकार नहीं किया जाता है, तब तक वे पीछे नहीं हटेंगे।

इससे पहले, ज़िला प्रशासन द्वारा घायल प्रदर्शनकारियों को मुआवज़ा देने से इनकार करने और 28 अगस्त को प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज करने पर अधिकारियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने से इनकार करने के बाद, किसानों ने यह मार्च निकाला और मिनी सचिवालय का घेराव किया।

इस मामले पर समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक़ राकेश टिकैत ने कहा कि, “प्रशासन ने एसडीएम की पूर्व की कार्रवाई पर स्पष्टीकरण देने का प्रयास किया है। हम आगे की कार्रवाई पर निर्णय लेने के लिए किसानों के साथ बैठक करेंगे।”

इस बीच, विभिन्न ज़िलों से महिलाओं सहित बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारियों के धरने पर बैठे किसानों ने मिनी सचिवालय के बाहर टेंट लगाना शुरू कर दिया है।

अभी तक सचिवालय के लोगों और कर्मचारियों की आवाजाही पर कोई रोक नहीं लगाई गई है। सरकार ने मोबाइल इंटरनेट और एसएमएस के निलंबन को अगले 24 घंटों के लिए यानी 9 सितंबर सुबह 12 बजे, तक के लिए बढ़ा दिया है।

Translate »