सिर्फ उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि पूरे देश में इस समय लड़कियाँ सुरक्षित नहीं हैं। 100 में से 80 प्रतिशत लड़कियाँ छेड़छाड़ और यौन उत्पीड़न के कारण आत्महत्या जैसा गंभीर कदम उठाती हैं। ऐसा ही मामला छत्तीसगढ़ से आया है।

छत्तीसगढ़ के बस्तर इलाके में 2 महीना पहले एक लड़की ने आत्महत्या कर ली थी। लड़की ने फांसी लगाकर आत्महत्या की थी। अपनी बेटी की आत्महत्या करने के 2 महीने बाद पिता ने भी जहर खाकर आत्महत्या करने की कोशिश की। लेकिन परिजनों ने लड़की के पिता को बचा लिया। जब पुलिस ने पिता से जहर खाने का कारण पूछा तो, पिता के मुख से कहानी सुनकर पुलिस का दिल दहल गया है।

बेटी के आत्महत्या के 2 महीने बाद पिता ने खाया ज़हर, सामने आई दिल दहलाने वाली कहानी
बेटी के आत्महत्या के 2 महीने बाद पिता ने खाया ज़हर, सामने आई दिल दहलाने वाली कहानी [सांकेतिक चित्र]
उसके पिता ने बताया कि, उनकी बेटी दो महीना पहले अपनी किसी सहेली के साथ एक शादी समारोह में गई थी। वहां पर 7 लोगों ने उनकी बेटी को जबरन उठाकर खेत में ले गए और उसके साथ गैंग रेप किया। गैंगरेप की वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी उनकी बेटी को वापस शादी समारोह में छोड़ कर चले गए। इस बात की जानकारी उनकी बेटी ने उनको दी और अपने साथ इस घटना से परेशान होकर उसने आत्महत्या भी कर ली।

पीड़ित पिता ने बताया कि वह पिछले 2 महीना से अपनी बेटी को न्याय दिलाने के लिए कोतवाली के चक्कर काट रहा है। लेकिन पुलिस उसकी बेटी और उनको न्याय नहीं दे रही है। आरोपी खुली हवा में घूम रहे हैं जो वह बर्दाश्त नहीं कर सका और जहर खाकर आत्महत्या करने की कोशिश की।

पुलिस ने पिता की शिकायत के आधार पर सभी सातों लड़कों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस ने पोस्को एक्ट के अंतर्गत 5 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है और दो फरार आरोपी की तलाश की जा रही है। पुलिस का कहना है कि जल्द ही आरोपी पुलिस की हिरासत में होंगे और सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी।