November 27, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

भारत में पहली बार पुरुषों से ज़्यादा महिलाएं, NFHS के 5वें सर्वेक्षण के जारी हुए आँकड़े

पांचवें राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (NFHS-5) के दूसरे चरण की रिपोर्ट के अनुसार पहली बार भारत में प्रति 1,000 पुरुषों पर 1,020 महिलाएं हैं।

Reuters

किसी भी NFHS सर्वेक्षण या जनगणना में यह पहली बार है कि लिंगानुपात(Sex Ratio) पर महिलाओं की संख्या पुरुषों की तुलना में ज़्यादा है। 2005-06 की NFHS-3 रिपोर्ट में यह अनुपात 1000:1000 था। हालांकि, 2015-16 में अगली NFHS रिपोर्ट में यह घटकर 991:1000 रह गया।

अतिरिक्त सचिव, केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और मिशन निदेशक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, विकास शील ने हिंदुस्तान टाइम्स को बताया, ‘जन्म के समय बेहतर सेक्स रेशियो और सेक्स रेशियो भी एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है; भले ही असली तस्वीर जनगणना से सामने आएगी, लेकिन हम अभी के परिणामों को देखते हुए कह सकते हैं कि महिला सशक्तिकरण के हमारे उपायों ने हमें सही दिशा में आगे बढ़ाया है।’

जन्म के समय का सेक्स रेशियो अब भी कम

भले ही 1020:1000 का सेक्स रेशियो हासिल करना एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है, लेकिन पिछले पांच वर्षों में जन्म के समय का सेक्स रेशियो 929 है।

बता दें कि सरकार ने 24 नवंबर को भारत और 14 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए जनसंख्या, प्रजनन और बाल स्वास्थ्य, परिवार कल्याण, पोषण और अन्य पर प्रमुख संकेतकों की फैक्टशीट जारी की, जिसे 2019-21 NFHS-5 के चरण-1 के तहत जोड़ा गया है।

दूसरे चरण में जिन राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों का सर्वेक्षण किया गया, उनमें अरुणाचल प्रदेश, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, हरियाणा, झारखंड, मध्य प्रदेश, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली, ओडिशा, पुडुचेरी, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड शामिल हैं।

22 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए NFHS-5 के निष्कर्षों को चरण-1 में शामिल किया गया, जिसे पिछले साल दिसंबर में जारी किया गया था।

Translate »