September 26, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

भारत सरकार और तालिबान के बीच हुई औपचारिक बातचीत, प्रियंका गांधी ने उठाये सवाल

मंगलवार को भारत और तालिबान के बीच पहली औपचारिक बातचीत हुई। कतर में भारत के राजदूत दीपक मित्तल ने तालिबान लीडर शेर मोहम्मद अब्बास स्टेनेकजई से बातचीत की।

Credit India Today

रिपोर्ट्स के मुताबिक, मित्तल और शेर मोहम्मद के बीच यह मुलाकात तालिबान की पहल पर हुई है। अब्बास तालिबान की पॉलिटिकल विंग का हेड है और भारत से उसका पुराना संबंध है। यह मुलाकात दोहा स्थित इंडियन एम्बेसी में हुई।

बता दें शेर मोहम्मद 1980 के दशक में भारत में रह चुका है और उसने देहरादून स्थित मिलिट्री एकेडमी में ट्रेनिंग ली है। वो पहले अफगान मिलिट्री में रहा लेकिन बाद में इसे छोड़कर तालिबान के साथ चला गया।

इंतजार करो और देखो की रणनीति

पिछले दिनों भारत में हुई ऑल पार्टी मीटिंग के दौरान विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा था कि अफगानिस्तान को लेकर भारत फिलहाल इंतजार करो और देखो की रणनीति पर चल रहा है। इस बारे में करीबी सहयोगियों के साथ भी बातचीत जारी है। वहीं, तालिबान के दो प्रवक्ता पहले ही साफ कर चुके हैं कि नई हुकूमत भारत के साथ ट्रेड और पॉलिटिकल रिलेशन चाहती है और इसे बारे में भारत से संपर्क किया जाएगा। खुद शेर मोहम्मद ने दो दिन पहले कहा था कि अगर पाकिस्तान दोनों देशों के बीच कारोबारी रास्ते को खोलने में आनाकानी करता है तो एयर कॉरिडोर का विकल्प खुला है।

प्रियंका और सरकार पर उठाए सवाल

तालिबान से बातचीत की खबर सामने आते ही विपक्षी नेता सरकार पर हमलावर हो गए। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोशल मीडिया पर लिखा कि बधाई हो! आतंक के नाम पर कोई समझौता न करने वाली मोदी सरकार ने तालिबान से बातचीत शुरू कर दी है। भारत के राजदूत ने आज (मंगलवार को) तालिबान के राजनीतिक प्रमुख से वार्ता करके उन्हें राजनीतिक मान्यता देने की तरफ एक कदम बढ़ा दिया है।

You may have missed

Translate »