September 26, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

हेरात के पूर्व गवर्नर इस्माइल खान और उनके सैनिकों ने तालिबान के सामने किया सरेंडर

बीते 7 दिन के अंदर तालिबान ने अफगानिस्तान के दूसरे सबसे बड़े शहर कंधार समेत अब तक 13 प्रांतों पर कब्जा कर लिया है तो वहीं तालिबान के खिलाफ लड़ने वाले लोग भी अब सरेंडर करने लगे हैं।

अफगानिस्तान के हेरात प्रांत के गर्वनर रहे इस्माइल खान और उनके सैनिक इस वक्त तालिबान के कब्जे में हैं। वे तालिबान के खिलाफ लड़ने वाले प्रमुख लोगों में शामिल थे, लेकिन अब उन्होंने तालिबान के आगे सरेंडर कर दिया है।

गेस्ट हाउस में रखा गया है पूर्व गवर्नर को

सूत्रों के मुताबिक, तालिबान से जंग बाद इस्माइल खान और उनके सैनिकों ने सरेंडर कर दिया। तालिबान ने उन्हें हेरात के एक गेस्ट हाउस में रखा है। इनके अलावा काबुल सरकार में उप-गृहमंत्री रहमान और हेरात प्रशासन के प्रमुख और जफर कोर के प्रमुख कमांडर खयाल नबी अहमदजई , हेरात के गवर्नर अब्दुल सबूर काने और नेशनल सिक्योरिटी डायरेक्टर हसाब सिद्दीकी भी तालिबान की गिरफ्त में हैं।

हज़ारों सैनिकों ने मिलाया तालिबान से हाथ

तालिबान के प्रवक्ता कारी मोहम्मद युसूफ ने एक न्यूज़ एजेंसी को भेजे एक बयान में बताया है कि इन सभी ने हजारों सैनिकों के साथ इस्लामी अमीरात से हाथ मिला लिया है। वहीं तालिबान का ये भी कहना है कि सरेंडर करने वाले इन सभी लोगों को जीवन की सुरक्षा और सम्मानजनक जीवन के अधिकार का भरोसा दिया गया है।

पूर्व गवर्नर के रहे हैं भारत से करीबी रिश्ते

इस्माइल खान अफगानिस्तान में भारत के करीबी दोस्त थे। भारत की मदद से अफगानिस्तान के हेरात में बने सलमा बांध के निर्माण में भी उनकी अहम भूमिका थी। इसी साल अप्रैल में वे भारत में उन्होंने विदेश मंत्री एस जयशंकर से मुलाकात की थी।

You may have missed

Translate »