December 2, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

जम्मू कश्मीर की पूर्व सीएम और पीडीपी मुखिया को पुलिस प्रशासन ने उनके घर में किया नजरबंद, घर के बाहर मोबाइल बंकर तैनात।

जम्मू कश्मीर की पूर्व सीएम और पीडीपी की मुखिया महबूबा मुफ्ती को एक बार फिर उनके ही घर में नजरबंद कर दिया गया है। प्रशासन ने उनके घर के बाहर मोबाइल बंकर तैनात कर दिये है।

बीते 24 अक्टूबर को आतंकियों और सुरक्षाबलों में अनंतनाग में मुठभेड़ हुआ था। जिसके कारण घाटी का माहौल काफी गर्म हो चुका था। इसी दौरान आतंकियों से मुठभेड़ में मारे गए एक युवक से मिलने पीडीपी मुखिया महबूबा मुफ्ती उनके घर जाने वाली थी। ठीक उसी वक्त प्रशासन ने उन्हें उनके ही घर में नजरबंद करने का फैसला लेते हुए उनके घर के बाहर मोबाइल बंद कर तैनात कर दिए और महबूबा मुफ्ती को नजरबंद कर दिया गया। वह मुठभेड़ के दौरान मारे गए शाहिद अहमद के परिवार वालों से मिलने उनके घर जा रही थी। अहमद की मौत 24 अक्टूबर को दक्षिण कश्मीर के शोपियां में कथित गोलीबारी की घटना में हो गई थी।

Mehbooba mufti

पीडीपी के नेता ने बताया कि पुलिस वालों ने महबूबा मुफ्ती के घर के मुख्य दरवाजे को बंद करके घर के ठीक बाहर एक मोबाइल बंकर तैनात कर दिया है। पार्टी नेता ने बताया कि उन्हें अनंतनाग में मारे गए युवक के घर जाने से पहले ही नजरबंद कर दिया गया है। पीडीपी प्रमुख ने आश्चर्य व्यक्त किया था कि भारतीय जनता पार्टी के पूर्व विधायक पर कोई कार्रवाई नहीं हुई, जिन्होंने भारत पाकस्तिान के बीच हुए टी 20 मैच के दौरान कुछ कश्मीरियों द्वारा पाक का समर्थन करने पर उनकी खाल उतारने की बात कही थी। मुफ्ती यहां अपनी पार्टी के वरिष्ठ नेता के एक ट्वीट का जवाब दे रही थी, जिसमें भाजपा के एक पूर्व एमएलसी वक्रिम सिंह रंधावा के वीडियो को साझा किया गया था।

बीजेपी के पूर्व विधायक पर भी बरसी महबूबा मुफ्ती

साझा किए गए वीडियो में पूर्व विधायक साफ-साफ यह कहते हुए दिख रहे हैं कि इनकी खाल उधेड़नी चाहिए, नागरिकता खत्म करो। मुफ्ती ने जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल को ट्वीटर पर टैग करते हुए कहा कि पूर्व भाजपा विधायक पर कोई कार्रवाई नहीं की गई, जिसमें वह कश्मीरियों की खाल उतारने की बात कर रहे हैं। जम्मू-कश्मीर के छात्र विजेता टीम का उत्साह बढ़ा रहे थे। जिस कारण उन पर देशद्रोह का आरोप लगाया गया। बता दें कि महबूबा मुफ्ती ने हाल ही में पीएम नरेंद्र मोदी को भी एक पत्र लिखा था, जिसमें पाकिस्तान का समर्थन करने वाले छात्रों पर ऐक्शन में नरमी बरते जाने की मांग की गई थी। महबूबा मुफ्ती का यह पाकिस्तान प्रेम कोई नई बात नहीं है।

इससे पहले भी कई मुद्दों के लिए उनका पाकिस्तान प्रेम साफ साफ झलकता नजर आया है। महबूबा मुफ्ती को अपने ही देश में लोगों द्वारा पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे सुनने अच्छे लगते हैं। शायद इसीलिए वह इन असामाजिक तत्वों का जमकर समर्थन कर रही हैं। अपनी राजनीतिक परोक्ष के लिए दशकों से जम्मू कश्मीर के युवाओं को विकास और शिक्षा के मुख्य धारा से भटकाने का काम करने वाली महबूबा मुफ्ती को अब रास नहीं आ रहा कि जम्मू कश्मीर के युवा अब विकास और शिक्षा के मामले में आगे बढ़ रहे हैं। कुछ युवा जिन्हें भटके हुए रास्ते से मुख्य मार्ग में लाने का कार्य किया जा रहा है इससे भी कहीं ना कहीं महबूबा मुफ्ती के राजनीतिक परोक्ष को ठेस पहुंचाता है। इसीलिए यह उन्हें पसंद नहीं है।

Translate »