October 24, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

नोएडा में शिक्षक की नौकरी लगाने के नाम पर 3 हजार से ज्यादा लोगों से करोड़ों की धोखाधड़ी

आयुष्मान भारत रोजगार योजना के नाम पर उत्तर प्रदेश के 3,423 बेरोजगार युवक-युवतियों को स्पोर्ट्स और योग शिक्षक की नौकरी का झांसा देकर ठगने का मामला प्रकाश में आया है। एक सामाजिक संगठन ने प्रत्येक अभ्यर्थी से करीब डेढ़ लाख रुपया लिया। फर्जी नियुक्ति पत्र दे दिया। घटना की रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस मामले की जांच कर रही है।

 

Tibune India

 

थाना फेस -3 के प्रभारी निरीक्षक विवेक त्रिवेदी ने बताया कि जनपद मऊ की रहने वाली श्वेता सिंह ने आरोप लगाया है कि सेक्टर 63 में आयुष्मान भारत योग एवं प्रशिक्षण संस्थान है। इस एनजीओ के माध्यम से प्रदेश के विभिन्न जनपदों के लिए दिसंबर 2019 में 2,276 और 2021 में 1,147 शिक्षकों की भर्ती निकाली गई। अभ्यर्थियों से कहा गया कि उनकी गृह जनपद में ही तैनाती होगी। प्रवेश शुल्क के नाम पर सामान्य व पिछड़ा वर्ग के लिए 380 रुपए और अनुसूचित जनजाति के लिए 280 रुपए  लिए गए। इसके बाद अभ्यर्थियों का टेस्ट लिया। और काउंसिलिंग के लिए सभी से 500- 500 रुपए वसूले गए। इसके बाद प्रति व्यक्ति 1,55,000 हजार रुपए मांगे गए। पैसे मिलने के बाद लोगो को नियुक्ति पत्र दिया गया।

उन्होने बताया कि जब अभ्यर्थियों ने स्कूलों में जाकर नियुक्ति पत्र दिया तो पता चला कि यह फर्जी है। इसके बाद जब पैसे वापस मांगे गए तो जान से मारने की धमकी दी जाने लगी। इस मामले में बनारस, बलिया, लखनऊ, कन्नौज, मुरादाबाद, गाजियाबाद सहित विभिन्न जनपद के रहने वाले लोग शिकार हुए हैं। घटना की शिकायत पर  थाना फेस-3 पुलिस ने एनजीओ के चेयरमैन दामोदर कुमार शर्मा, ट्रस्टी संजय चौधरी, फाउंडर विपुल, अध्यक्ष अब्बाशी और टेक्निकल हेड विनीत गुप्ता के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

Translate »