September 24, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने यूएनडीपी और एचडीएफसी बैंक से किया अनुबंध, इकोटेक-12 में लगेगा प्लांट,

यूएनडीपी देश के 20 राज्यों में 25 जगहों पर एमआरएफ केंद्र को ऑपरेट कर रहा है लेकिन ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने जिस तालमेल और तीव्र गति से इस केंद्र को लगाने के लिए मंजूरी दी है। वह अपने आप में एक रिकॉर्ड है। इतनी तेजी किसी भी अन्य शहर में मंजूरी नहीं मिली। यह बात यूएनडीपी के प्रतिनिधि श्रीकृष्ण बालचंद्रन ने मंगलवार को ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण और एचडीएफसी बैंक के साथ ग्रेटर नोएडा के पहले एमआरएफ सेंटर बनाने के लिए अनुबंध करने के अवसर पर कही।

 

 

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की पहल पर यूएनडीपी (यूनाइटेड नेशन डेवलपमेंट प्रोग्राम) और एचडीएफसी बैंक मिलकर ग्रेटर नोएडा के सेक्टर ईकोटेक-12 में एमआरएफ सेंटर बनेगा। एचडीएफसी बैंक इस प्लांट को वित्तीय सहायता प्रदान करेगा। मंगलवार को ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने यूएनडीपी और एचडीएफसी बैंक के साथ इस प्रोजेक्ट के लिए अनुबंध किया।

 

 

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ नरेंद्र भूषण ने कहा कि औद्योगिक निवेश के लिए ग्रेटर नोएडा देश ही नहीं, विश्व भर के निवेशकों के लिए बड़ा हब बनकर उभर रहा है। डाटा सेंटर, इलेक्ट्रॉनिक्स और ऑटोमोबाइल सेक्टर आदि में तमाम मल्टीनेशनल कंपनियां निवेश कर रही हैं। ग्रेटर नोएडा से सटे देश के सबसे स्मार्ट सिटी में से एक आईआईटीजीएनएल की इंटीग्रेटेड टाउनशिप में भी बड़ी कंपनियां निवेश कर रही हैं। यहां हायर इलेक्ट्रॉनिक्स, फॉर्मी मोबाइल, सत्कृति इंफोटेनमेंट, चेनफेंग (एलईडी कंपनी) और जे वर्ल्ड इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनियां प्लांट लगा रही हैं।

उन्होंने कहा कि औद्योगिक निवेश का हब बनने के बावजूद ग्रेटर नोएडा का हरियाली और स्वच्छता पर भी विशेष फोकस है। एनसीआर का सबसे हरित शहर भी ग्रेटर नोएडा ही है। उन्होंने नारा दिया कि सेक्टर का कूड़ा सेक्टर में, मोहल्ले का कूड़ा मोहल्ले में और घरों का कूड़ा घरों में निस्तारित होना चाहिए। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण इसी दिशा में काम कर रहा है। उन्होंने ग्रेटर के निवासियों से इस नारे को साकार करने में सहयोग की भी अपील की।

 

 

एचडीएफसी बैंक की संस्था एचडीएफसी परिवर्तन के जरिए इस प्लांट को बनाने के लिए तीन करोड़ रुपये की धनराशि बतौर कार्पोरेट सोशल रेस्पोंसबिलिटी दी गई है। इस सेंटर पर ड्राई वेस्ट को रीसाइकिल कर प्लास्टिक बोर्ड भी बनेंगे, जिनसे घरेलू और सजावटी उत्पाद भी बनाए जा सकते हैं। इस अवसर पर एचडीएफसी बैंक के ब्रांच बैंकिंग हेड अखिलेश कुमार रॉय ने बेहतर तालमेल और बहुत कम समय में इस सेंटर को मंजूरी दिलाने के लिए ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के एसीईओ दीपचंद्र, जीएम वित्त एचपी वर्मा, जीएम प्रोजेक्ट एके अरोड़ा डीजीएम केआर वर्मा व वरिष्ठ प्रबंधक सलिल यादव की सराहना की। इस दौरान प्राधिकरण के डीजीएम सीके त्रिपाठी, एचडीएफसी बैंक के सर्किल हेड अमन अवल, क्लस्टर हेड अशोक सिंह, सीनियर मैनेजर गौरव सिंह, ब्रांच मैनेजर अनिल कुमार और अर्नेस्ट एंड यंग के प्रतिनिधि भी मौजूद रहे।

Translate »