संचारी रोग पर लगाम लगाने को ग्रेनो में 18 अक्तूबर से चलेगा दस्तक अभियान

by Disha
0 comment

ग्रेटर नोएडा: ग्रेटर नोएडा में संचारी रोग पर नियंत्रण करने के लिए प्राधिकरण ने कमर कस ली है। बड़े पैमाने पर एंटी लार्वा व फॉगिंग कराने के लिए 18 अक्तूबर से दस्तक अभियान चलाने की योजना है। करीब 36 टीमें बना दी गई हैं। नालियों की सफाई व कचरे का उचित निस्तारण भी इसी अभियान का हिस्सा है। इस काम में करीब 1200 कर्मचारी लगेंगे।

 

 

जिले में संचारी रोग के नोडल अफसर व ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ नरेंद्र भूषण के निर्देश पर ग्रेटर नोएडा में दस्तक अभियान 18 अक्तूबर से शुरू करने का निर्णय लिया गया है। प्राधिकरण के जनस्वास्थ्य विभाग के प्रभारी सलिल यादव ने इसकी सूची तिथिवार तैयार करा दी है। इसे शीघ्र ही वेबसाइट पर अपलोड कर दिया जाएगा।

मसलन 18 अक्तूबर को ग्रेटर नोएडा के सेक्टर पी थ्री, चाई फोर, बिल्डर्स एरिया, फाई थ्री, फाई फोर सेक्टरों के अलावा घरबरा, लुक्सर, इमिलियाका, सिरसा, खानपुर, तुगलपुर हल्दौना आदि गांवों में फॉगिंग व एंटी लार्वा का छिड़काव होना है। इसी तरह अन्य जगहों के लिए भी तिथि तय कर दी गई है। इसके लिए 36 टीमें लगाई गई हैं।

नालियों की सफाई के लिए 1200 लोग तैनात किए जाएंगे। मशीनरी भी बढ़ा दी गई है। फॉगिंग व नालियों की सफाई करने वाली टीम को जीपीएस लोकेशन भी देना होगा, ताकि पता चल सके कि वे शेड्यूल के हिसाब से एंटी लार्वा व फॉगिंग का छिड़काव कर रहे हैं या नहीं।

स्वच्छता के प्रति जागरूक करने के लिए भी विशेष अभियान चलेगा। स्वास्थ्य विभाग की टीम गांवों व सेक्टरों में लोगों को जागरूक भी करेगी। दस्तक अभियान के लिए स्वास्थ्य विभाग की तरफ से प्राधिकरण को बताए गए जगहों पर ज्यादा फोकस होगा।

असुरक्षित जल स्रोत भी चिंहित होंगे

दस्तक अभियान के तहत एंटी लार्वा व फॉगिंग के साथ ही गांवों में जल के स्रोत भी चिंहित किए जाएंगे, जिन जगहों पर जलापूर्ति नहीं है, वहां के लोग किन स्रोतों से पानी ले रहे हैं, इसका ब्योरा तैयार किया जाएगा, ताकि वहां के लोगों के लिए सुरक्षित पेयजल उपलब्ध कराया जा सके। अगर गांव में तालाब है, लेकिन उनमें जलकुंभी लगी हुई है तो उसकी सफाई की जाएगी।

कंट्रोल रूम को दे सकते हैं सूचना

-इस विशेष अभियान के तहत अगर किसी जगह पर तय शेड्यूल के हिसाब से फॉगिंग या एंटी लार्वा का छिड़काव नहीं हो सका है तो ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम को कॉल कर सकते हैं। प्राधिकरण की टीम तत्काल वहां पहुंचेगी। इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम का नंबर 0120-2336046, 47, 48 व 49 है। साथ ही व्हाट्स एप नंबर 8800882124 पर मैसेज भी कर सकते हैं।

About Post Author