यूपी के लिए ऐतिहासिक दिन, योगी द्वारा लाये गये कानून पर राज्यपाल……

उत्तर प्रदेश के लिए आज एक ऐतिहासिक दिन है। उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा लाया गया लव जिहाद के खिलाफ कानून पर उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने मुहर लगा दी है। आनंदीबेन पटेल ने उत्तर प्रदेश विधि विरोध धर्म परिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश 2020 पर अपने हस्ताक्षर करके मंजूरी दे दी है। आज से यह कानून उत्तर प्रदेश में लागू हो गया है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 24 नवंबर को यह  कानून बनाया था । योगी आदित्यनाथ काफी समय से गृह मंत्रालय से लव जिहाद पर कानून बनाने की बात कर रहे थे। जिस पर गृह मंत्रालय ने केंद्रीय कानून मंत्रालय को लव जिहाद पर कानून बनाने के लिए प्रस्ताव भेजा था। केंद्रीय कानून मंत्रालय की रिपोर्ट से पहले ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने प्रदेश में लव जिहाद पर कानून बना दिया है। जिसको कैबिनेट मीटिंग में पास भी कर दिया गया है। इस कानून का नाम योगी सरकार ने गैर कानूनी धर्म परिवर्तन अध्यादेश दिया है।

इस अध्यादेश के अनुसार अब दूसरे धर्म में शादी करने वाले व्यक्ति को डीएम की परमिशन लेनी होगी। इसके लिए शादी से 2 महीना पहले दूसरे धर्म में शादी करने वाले व्यक्ति को डीएम से परमिशन लेनी होगी। अपने जिले के डीएम के परमिशन लिए बिना शादी करने पर 3 साल तक की सजा को 10 हजार रुपए का जुर्माना लगेगा।

इसके अलावा अध्यादेश में साफ तौर पर कहा गया है कि, धर्म छुपा कर शादी करने वाले को 10 साल की सजा होगी। धर्म छिपाकर शादी करना लव जिहाद माना जाएगा। इस पर व्यक्ति को 10 साल की सजा होगी और 15 हजार रुपए का जुर्माना भी देना पड़ेगा।

सामूहिक रूप से गैर कानूनी तरीके से धर्म परिवर्तन करके शादी करने पर 10 साल की सजा और 50 हजार रुपए का जुर्माना देना होगा। आपको बता दें कि कुछ समय से उत्तर प्रदेश में लव जिहाद के मामले काफी बढ़ते जा रहे हैं। जिसको देखते हुए योगी सरकार ने ‘उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म परिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश 2020’ लागू किया है। अब धर्म परिवर्तन करके शादी करने वाले पर योगी सरकार का डंडा चलेगा।