Wednesday, August 3, 2022

MOTHER LAND POST

MOTHERLANDPOST

यूक्रेन और रूस के बीच युद्ध का कैसे पड़ रहा है भारतीय तेल बाज़ार पर असर?

by Disha
0 comment

यूक्रेन और रूस के बीच जारी युद्ध से भारत के बाज़ार पर ख़ासा असर पड़ रहा है। इसी कड़ी में यूक्रेन व रूस से सूरजमुखी तेल के आयात में आई रुकावट से खाद्य तेलों के दाम तेज़ी से बढ़ रहे हैं।

 

 

समाचार एजेंसी एएनआई ने एक व्यापारी के हवाले लिखा, “तेल कीमतें लगभग 300 रुपये से 400 रुपये प्रति 15 किलो कंटेनर तक बढ़ गई हैं। बाज़ार में तेल की कमी है क्योंकि आयात पूरी तरह से बंद हो गया है।”

एक अन्य व्यापारी ने कहा, “बाज़ार में तेल की कमी है और विशेष रूप से सूरजमुखी के तेल की क़ीमत लगभग 600 रुपये प्रति 15 किलोग्राम बढ़ गई है जिसका आम आदमी पर असर पड़ने वाला है।”

दरअसल भारत में सूरजमुखी का तेल मुख्य रूप से यूक्रेन और रूस से आयात किया जाता है। व्यापारी ने कहा, ‘दोनों देशों के बीच युद्ध शुरू होने से पहले सोयाबीन तेल 1950 रुपये के आसपास बेचा जाता था जो अब बढ़कर 2500 रुपये हो गया है, जबकि सूरजमुखी का तेल पहले 2,150 रुपये था जो अब 2,750 रुपये को पार कर गया है।

एक अन्य व्यापारी ने कहा, “जब तक युद्ध जारी रहेगा तेल के दाम नहीं घटेंगे। अब लोगों ने तेल को जमा करना शुरू कर दिया है क्योंकि उन्हें डर है कि भविष्य में उनके पास यह बिल्कुल नहीं बचेगा।”

इससे यह तो स्पष्ट है कि आने वाले दिनों में पश्चिम में जारी इस घातक युद्ब का असर भारत में आर्थिक रूप से पड़ेगा जिससे आम आदमी की जेब संकट में है।

About Post Author