September 28, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

IIT कानपुर के वैज्ञानिक का दावा, तीसरी लहर आने की संभावना नगण्य

IIT कानपुर के वरिष्ठ वैज्ञानिक, प्रोफफ़ेसर मनिंद्र अग्रवाल ने दावा किया है कि भारत में COVID-19 महामारी की तीसरी लहर की संभावना अब नगण्य है।

 

Reuters

 

IIT प्रोफ़ेसर ने अपने मैथमेटिकल ‘मॉडल फॉर्मूले’ के आधार पर एक नया अध्ययन जारी करते हुए कहा कि COVID-19 टीकाकरण अभियान ने तीसरी लहर के जोखिम को और कम कर दिया है।
उन्होंने कहा, “टीकाकरण ने संक्रमण में काफ़ी हद तक कमी सुनिश्चित की है।” उन्होंने कहा कि ‘यूपी, बिहार, दिल्ली जैसे राज्य लगभग संक्रमण मुक्त होने की राह पर हैं। हालांकि, देश में सक्रिय मामले 15,000 के करीब रहेंगे। अक्टूबर के महीने में पूर्वोत्तर राज्यों और तमिलनाडु, तेलंगाना, केरल में भी संक्रमण होगा।’

प्रोफ़ेसर अग्रवाल ने भविष्यवाणी की है कि अक्टूबर तक उत्तर प्रदेश, बिहार, दिल्ली, मध्य प्रदेश जैसे राज्यों में मामलों की संख्या इकाई अंक तक पहुंच जाएगी। इस बीच, रविवार को कानपुर में दो और कोविड मरीज़ होम आइसोलेशन में संक्रमण मुक्त हो गए। इसके साथ ही नए संक्रमितों की संख्या शून्य हो गई है।

कानपुर में, 82,906 लोग COVID 19 से संक्रमित हुए थे, जिनमें से 80,991 मरीज़ ठीक हो चुके हैं। ठीक हुए मारीज़ों में 69,616 को घर पर स्वास्थ्य लाभ मिला और 11,375 मरीजों को ही अस्पताल में इलाज मिला। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नेपाल सिंह ने कहा कि शहर में अब केवल 11 सक्रिय COVID-19 ​​​​मामले बचे हैं।

वहीं दूसरी तरफ़ गृह मंत्रालय के पैनल ने ये भी चेताया है कि अक्तूबर में कोरोना मामले सबसे ऊँचे स्तर पर पहुंच सकते हैं
और बच्चों पर इसका सबसे बड़ा ख़तरा है। हालांकि कोरोना का भविष्य लोगों के एहतियात पर ही निर्भर करता है।

Translate »