November 27, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

गाजियाबाद के सामूहिक विवाह समारोह में “वैदिक मंत्र” और “निकाह कुबूल है” से गूंजा पंडाल, योगी आदित्यनाथ ने 812 मुस्लिम जोड़े समेत 2306 की करवाई शादी.

कमला नेहरूनगर में आयोजित कार्यक्रम में सोमवार को श्रमिकों के बेटियों की सामूहिक शादी कराई गई। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी शामिल होना था। लेकिन व्यस्तता के चलते नहीं आ पाए। उन्होंने लखनऊ से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए नव विवाहित जोड़ों को आशीर्वाद प्रदान किया।

Samuhik vivah

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, इस संसार में कन्यादान सबसे बड़ा एवं पवित्र दान माना गया है। जिसने गरीब की पीड़ा को सही से देखा है। वही उनके सुख-दुख में उनके साथ रह पाएगा। इसलिए प्रदेश सरकार द्वारा यह बीड़ा उठाया गया और श्रमिकों को शासन की योजनाओं से जोड़ा गया। ताकि अधिक से अधिक जरूरतमंद तक सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ श्रमिकों तक पहुंचाया जा सके।

जिला प्रशासन और श्रम विभाग की ओर से आयोजित सामूहिक विवाह योजना के तहत 2306 जोड़े विवाह बंधन में बंधे। कमला नेहरू नगर में बनाए गए भव्य पंडाल में गाजियाबद के अलावा हापुड़ और बुलंदशहर के श्रमिकों की बेटियों की शादी कराई गई। यह बिना किसी भेदभाव के सभी समाज की बेटियों की शादी में 51 हजार रूपए नगद और प्रदेश सरकार की इस योजना से अब तक हजारों श्रमिकों की बेटियों की शादी कराई जा चुकी है। बिना भेदभाव किए सभी समाज की बेटियों की शादी में 51 हजार रुपए नगद और घर का सामान दिया जा रहा है।

इस सामूहिक विवाह समारोह में गाजियाबाद के 1239 जोड़ों, हापुड़ के 641 जोड़ें और बुलंदशहर के 426 जोड़ों ने हिस्सा लिया है। जिसमें 1488 हिंदू समुदाय, 812 मुस्लिम समुदाय और 6 बौद्ध समुदाय के नव-विवाहित वर-वधू की शादी संपन्न कराई गई। राज्य सरकार द्वारा अक्टूबर 2017 से मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना संचालित है। जिसके अन्तर्गत विभिन्न समुदाय और धर्मों के रीति-रिवाजों के अनुसार वैवाहिक कार्यक्रम सम्पन्न कराया जाता है। योजना का मुख्य उद्देश्य यह है कि विवाह उत्सव में होने वाले अनावश्यक प्रदर्शन और अपव्यय को समाप्त किया जाना है। गरीब परिवार से जुड़े जोड़ों कोआर्थिक सहायता उपलब्ध कराना है।

प्रदेश श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि, गांव की बेटी सबकी बेटी होती है। वह न किसी जाति विशेष और न किसी मजहब की होती है। अपितु वह तो इन सबसे ऊपर होती है, जिसके क्रम में भव्य सामूहिक विवाह आयोजन एक सराहनीय प्रयास है। श्रम विभाग के माध्यम से 18 कमिश्नरियों में 18 अटल आवासीय विद्यालय बनाए जा रहे हैं। जहां श्रमिकों के बच्चों को निशुल्क शिक्षा, खेल और उनकी स्किल डेवलपमेंट का कार्य किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने गाजियाबाद में चल रहे लोकार्पण एवं शिलान्यास होने वाले कार्यों के संबंध में कहा कि, जनप्रतिनिधियों और संबंधित विभागीय अधिकारियों के द्वारा आपसी सामंजस्य स्थापित करते हुए सभी कार्य को निर्धारित समय अवधि में गुणवत्ता परक रूप से पूर्ण कराने की कार्रवाई सुनिश्चित की जाए।

इस मौके पर केंद्रीय राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह, श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष सुनील भराला, राज्यसभा सदस्य अनिल अग्रवाल, स्वास्थ्य राज्यमंत्री अतुल गर्ग,विधायक सुनील शर्मा, विधायक नंदकिशोर गुर्जर, भाजपा नेता नरेंद्र कश्यप, मेयर आशा शर्मा, महानगर मंत्री संयोजक पंडित गुंजन शर्मा, श्रम आयुक्त राजशेखर, डीएम राकेश सिंह, एसएसपी पवन कुमार और सीडीओ अस्मिता लाल समेत कई अधिकारी भी कार्यक्रम में शामिल थे।

Translate »