October 24, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

भारत-चीन सीमा विवाद के बीच मिले दोनों देशों के विदेश मंत्री, भारत ने की सेना वापस बुलाने की बात

भारत और चीन के बीच सीमा विवाद अब तक सुलझ नहीं सका है और ऐसे में भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बताया कि भारत ने चीन से कहा है कि उनके द्विपक्षीय संबंध तभी विकसित होंगे जब दोनों देश अपने सैनिकों को अपनी विवादित हिमालयी सीमा से वापस बुलाएँगे।

 

Reuters

 

एस जयशंकर ने गुरुवार को दुशांबे में एक क्षेत्रीय सम्मेलन के मौके पर अपने चीनी समकक्ष वांग यी से मुलाकात के दौरान दोनों पक्षों की संभावना पर चर्चा की।

जयशंकर ने ट्विटर पर कहा, “हमारे सीमावर्ती क्षेत्रों में विघटन पर चर्चा की गई। इस संबंध में प्रगति, शांति की बहाली के लिए आवश्यक है, जो द्विपक्षीय संबंधों के विकास का आधार है।”

बता दें कि हज़ारों भारतीय और चीनी सैनिक पिछले साल से पश्चिमी हिमालय में टकराव में संघर्षरत हैं। पिछले साल जून में दोनों सेनाओं के बीच तनाव पैदा हो गया था और उस लड़ाई में दोनों पक्षों ने अपने सैनिकों को खोया।

 

‘मिलकर करना होगा काम’

हालांकि अपने कमांडरों के बीच कई दौर की बातचीत के बाद, उनके बलों ने उस स्थल के पास के विवादित क्षेत्र पैंगोंग त्सो झील सहित सीमा के कुछ हिस्सों से वापसी की है।

वांग ने कहा, “चीन ने हमेशा चीन-भारत सीमा मुद्दे को ठीक से और सकारात्मक रवैये के साथ संभाला है।”
“(दोनों पक्षों को चाहिए) सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति और स्थिरता बनाए रखने के लिए मिलकर काम करना चाहिए, और सीमा की घटनाओं को दोहराने से रोकना चाहिए।”

चीनी विदेश मंत्रालय के एक बयान में वांग के हवाले से कहा गया है कि, ‘दो प्रमुख उभरती अर्थव्यवस्थाओं के रूप में, चीन और भारत को द्विपक्षीय संबंधों को एक स्वस्थ और स्थिर ट्रैक पर वापस लाना चाहिए।’

जयशंकर ने कहा कि उन्होंने हाल की वैश्विक घटनाओं पर भी वांग के साथ चर्चा की। भारत के कट्टर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के साथ चीन के घनिष्ठ सैन्य संबंध जहां तनाव का स्रोत रहे हैं, वहीं जयशंकर ने कहा कि भारत-चीन संबंधों को द्विपक्षीय दृष्टि से देखा जाना चाहिए।

उन्होंने वांग से कहा, “यह भी ज़रूरी है कि चीन भारत के साथ अपने संबंधों को किसी तीसरे देश के नज़रिए से न देखे।”

ग़ौरतलब है कि दोनों शीर्ष अधिकारी शंघाई सहयोग संगठन की बैठक के लिए फ़िलहाल दुशांबे में हैं।

Translate »