May 14, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

लखनऊ : क्या MCD  छुपा रही है कोरोना से हुई मौतों का आंकड़ा? प्रियंका गाँधी ने उठाये सवाल

उत्तरप्रदेश में करोना संक्रमण तेज़ी से फैल रहा है जिसके चलते हालात बेक़ाबू होते नज़र आ रहे हैं। इस बीच लखनऊ MCD पर आरोप लग रहे हैं कि वो संक्रमण के चलते होने वाली मौतों के ऑंकड़े छुपा रही है। MCD  शक़ के घेरे में है।ग़ौरतलब है कि उत्तर प्रदेश सरकार के आंकड़ों में कोरोना की वजह से मौतों की संख्या कम है, जबकि अगर कोविड प्रोटोकॉल के तहत किये गए अंतिम संस्कारों की गिनती की जाए तो श्मशान घाट के ऑंकड़े उससे  ज़्यादा हैं।

बताया जा रहा है कि नगर निगम मौतों को छुपाने के लिए बैकुंठ धाम पर नज़र रखेगी। यहाँ अंतिम संस्कार के वीडियो वायरल होने से रोकने के लिए लोगों को अब बाहर से चिताओं को देखने की इजाज़त नहीं होगी।

लोगों का मानना है कि ऐसा इसलिए किया जा रहा है जिससे राज्य सरकार की कोरोना से हुई मौतों को छुपा सके ।

इस बाबत कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी सरकार और नगर निगम पर निशाना साधा है। उन्होंने आरोप लगाए हैं कि अगर सरकार पहले दिन से ही सचेत रहती तो शायद आज यह दिन नहीं देखने पड़ते।
उन्होंने ट्वीट कर कहा, “उप्र की सरकार से एक निवेदन है: अपना समय, संसाधन और ऊर्जा इस त्रासदी को छुपाने, दबाने में लगाना व्यर्थ है। महामारी को रोकने, लोगों की जान बचाने, संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए ठोस कदम उठाइए। यही वक्त की पुकार है।”साथ उन्होंने एक मीटिंग में ये भी कहा कि, ”उत्तर प्रदेश की स्थिति सबसे ज़्यादा विस्फ़ोटक होने की कगार पर है जबकि राज्य सरकार लगातार आंकड़े छुपा रही है। अगर सरकार कोरोना महामारी के पहले दिन से ही सचेत रही होती तो शायद आज इस तरह के दिन नहीं देखने पड़ते। इस महामारी में पहले ही दिन से बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था करने के बजाय सरकार ने संक्रमण के आंकड़े और मौतों की संख्या को लगातार छुपाया है।”

प्रियंका ने आरोप लगाया, ”कोरोना नियंत्रण को लेकर सरकार की कोई व्यवस्था और योजना ही नहीं दिख रही है। इसके बजाय ऐसा लग रहा है कि प्रदेश की जनता पर दोतरफा वार हो रहा है! एक तरफ से कोरोना और दूसरी तरफ से उत्तर प्रदेश सरकार की नाकाम, असंवेदनशील और गैर जिम्मेदार व्यवस्था। यह सारी स्थितियां सरकार और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अदूरदर्शिता और नकारेपन के कारण भी हुईं हैं। फिर भी उन्हें अब भी केवल अपनी छवि की चिंता है।”

इसके साथ ही कांग्रेस महासचिव ने कहा कि प्रदेश के क़ानून मंत्री बृजेश पाठक की चिट्ठी में यह स्पष्ट तौर पर लिखा गया है कि लखनऊ में निजी अस्पतालों में जांच नहीं हो रही है और सरकारी संस्थानों के हालात यह हैं कि कोरोना की जांच रिपोर्ट में कई दिन लग रहे हैं। कांग्रेस महासचिव ने कहा, ‘‘आज स्थिति यह हो गयी गई है कि राजधानी लखनऊ में लाशों की कतार लग गई हैं। शवदाहगृहों पर लकड़ियों की कमी हो गयी है। प्रदेश का आम आदमी अपने परिजन का अंतिम संस्कार भी सम्मानित तरीके से करने में लाचार है। सुबह से देर रात तक शवगृहों और कब्रिस्तानों में लोग अपने मृत प्रियजनों का अंतिम संस्कार कर रहे हैं।’’

प्रदेश कांग्रेस प्रभारी ने कहा, ‘‘पार्टी इस विपत्ति की घड़ी में प्रदेश की जनता के साथ खड़ी है। वह जनता को हर तरह से सहयोग देने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा फर्ज है कि संक्रमित लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए हम सरकार से मांग करें। उनके सवालों के लिए लड़ें। यह विपक्ष का धर्म है और हम दृढ़ता से इसे निभाएँगे।’’

इस समय कोरोना से भारी संख्या में लोग अपनी जान गँवा रहे हैं। इसलिए यह ज़रूरी है कि सरकार द्वारा लोगों की जान और उनके स्वास्थ्य को पहली प्रार्थमिकता दी जाए।

Translate »