September 26, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

क्या सिद्धू पंजाब की कैप्टेन सरकार को ‘निर्देश’ दे रहे हैं?

पंजाब कांग्रेस में खींचतान जारी है और इस बीच पार्टी हाईकमान से लगातार दिए जा रहे संकेतों के बावजूद पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू शांत रहने का नाम नहीं ले रहे हैं।

 

 

सिद्धू लगातार मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह पर निशाना साध रहे हैं। उन्हें पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनाये जाने के बाद उम्मीद जताई जा रही थी दोनों नेताओं के बीच का ये संघर्ष कम अज़ कम विधानसभा चुनावों तक थम सकता है। लेकिन ऐसा होता हुआ नज़र नहीं आ रहा है।

दोनों कद्दावर नेताओं के बीच की ये गहमा-गहमी न केवल पार्टी में चल रहे विवाद को बढ़ा सकती है बल्कि आगामी चुनावों पर भी इसका असर देखने को मिल सकता है और कांग्रेस को नुक़सान उठाना पड़ सकता है।

 

किस ओर है सिद्धू का निशाना?

ग़ौरतलब है कि सिद्धू ने ताज़ा दो ट्वीट बिजली दर को लेकर किए हैं, हालांकि इनमें उनकी मंशा पर भले सवाल न उठा सकता हो पर ऐसा लगता है मानो वे मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को सीधा ‘निर्देश’ दे रहे हों।

उन्होंने अपने पहले ट्वीट में लिखा, ‘पंजाब सरकार को सार्वजनिक हित में PSERC को यह निर्देश जारी करने चाहिए कि प्राइवेट पावर प्‍लांट्स को किए जा रहे शुल्‍क (tariff) को संशोाधित करे। दोषपूर्ण PPAs को शून्‍य घोषित किया जाए। दोषपूर्ण PPA को खत्‍म करने और एक नया कानून लाने के लिए पांच से सात दिन का विधानसभा सत्र बुलनाया जाना चाहिए।’

इस मुद्दे पर एक अन्‍य ट्वीट में सिद्धू ने लिखा, ‘इससे पंजाब सरकार को ‘सामान्‍य श्रेणी सहित सभी घरेलू उपभोक्‍ताओं को 300 यूनिट मुफ्त बिजली देने में मदद मिलेगी। घरेलू टैरिफ़ को घटना तीन रुपये प्रति यूनिट और इंडस्‍ट्री के लिए पांच रुपये प्रति यूनिट… इसके साथ ही सभी बकाया बिलों के समाधान और अनुचित बिलों को माफ करने में सहायता मिलेगी।

बता दें कि इससे पहले पूर्व क्रिकेटर ने राज्‍य में गन्‍ने की स्‍टेट अशोयर्ड प्राइस (SAP)को लेकर ट्वीट किया था। उन्‍होंने लिखा था, ‘गन्‍ना किसानों के मुद्दे को सौहाद्रपूर्ण ढंग से तत्‍काल हल किए जाने की जरूरत है। यह अजीब है कि पंजाब में खेती की लागत ज्‍यादा होने के बाद भी SAP हरियाणा-यूपी-उत्‍तराखंड की तुलना में कम है। कृषि के प्रथप्रदर्शके रूप में पंजाब में SAP बेहतर होनी चाहिए।’

You may have missed

Translate »