May 13, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

क्या RT-PCR टेस्ट भी नहीं पहचान पा रहा कोरोना वायरस को?

दुनिया मे कोरोना की दूसरी लहर ने भयावह रूप ले लिया है, उधर कोरोना RT PCR को भी धोखा दे रहा है, इस बात का खुलासा सिटी स्कैन के माध्यम से हुआ क्योंकि मरीज की रिपोर्ट नेगेटिव आयी लेकिन उसको सांस लेने में समस्या थी।

ऐसे में लोगों को के मन मे सवाल उठने लगे हैं कि कोरोना अब वायरस टेस्ट को धोखा दे रहा है। बता दें कि कई मरीज़ो की रिपोर्ट नेगेटिव आई लेकिन उन्हें बुखार, खांसी और सांस फूलने जैसी समस्या थी, इसी के चलते डॉक्टर ने सिटी स्कैन कराया जिससे कोरोना संक्रमण निकला।

सिटी स्कैन से पता चला कोरोना

जब मरीज का RT-PCR टेस्ट हुआ तो नेगेटिव आयी लेकिन जब सिटी स्कैन हुआ तो रिपोर्ट में संक्रमित मरीज के लंग्स में हल्के रंगीन पैच दिखे जिससे स्पष्ट होता है कि मरीज कोरोना से संक्रमित है।

एक जाने माने डॉक्टर  ने बताया कि हमारे पास पिछले कुछ दिनों में कई ऐसे मरीज आ रहे हैं जिनको बुखार, सांस लेने में दिक्कत थी और जब फेफेड़ों के सिटी स्कैन करने पर हल्के रंग या ग्रे कलर का धब्बा दिखा जो कि कोरोना का जाना-माना लक्षण है।’

डॉक्टर  ने बताया कि ऐसे कुछ मरीजों के मुंह या नाक में एक लचीला यंत्र डालकर फेफड़े तक ले जाते हैं और वहां फ्लुइड एकत्र करके जांच की जाती है तो उनके कोरोना पीड़ित होने की पुष्टि हो जाती है। इस प्रक्रिया को ब्रॉन्कोलवेलार लैवेज (BAL) कहते हैं। डॉ. चौधरी कहा कि कोरोना के लक्षण वाले वैसे सभी मरीज जो सामान्य टेस्ट में निगेटिव आए थे, इस प्रक्रिया से किए गए टेस्ट में पॉजिटिव आए हैं।

Translate »