May 13, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

एक-एक व्यक्ति की जान बचाना हमारी प्राथमिकता: योगी आदित्यनाथ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को वर्चुअल माध्यम से आहूत एक उच्च स्तरीय बैठक में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश की अनेक एमएसएमई इकाइयों सहित बड़ी औद्योगिक इकाइयां अपने उत्पादों के निर्माण के लिए आॅक्सीजन तैयार करती हैं। वर्तमान समय की विशेष परिस्थितियों को देखते हुए यह सुनिश्चित किया जाए कि इन इकाइयों में उत्पादित होने वाली ऑक्सीज़न का इस्तेमाल केवल मेडिकल कार्य के लिए हो। उन्होंने एमएसएमई विभाग और औद्योगिक विकास विभाग को टीम गठित कर इस कार्यवाही को आगे बढ़ाने के निर्देश देते हुए कहा कि इन इकाइयों के समीप स्थित अस्पतालों को मेडिकल ऑक्सीज़न की आपूर्ति की जाए।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, एक-एक व्यक्ति की जान बचाना हमारी प्राथमिकता है। इसलिए कोविड-19 के उपचार के उपायों को प्रभावी ढंग से जारी रखा जाए। सभी कोरोना मरीजों को ऑक्सीज़न सहित आवश्यक दवाओं की सुचारु उपलब्धता के साथ-साथ होम आइसोलेशन में रहने वाले प्रत्येक व्यक्ति को मेडिकल किट की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। उन्होंने संक्रमण से अधिक प्रभावित लखनऊ, कानपुर नगर, प्रयागराज, वाराणसी, झांसी, गोरखपुर, मेरठ जनपदों सहित प्रदेश के सभी जिलों में कोविड बेड की संख्या को दोगुना करने के निर्देश दिये हैं।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, स्वास्थ्य विभाग तथा चिकित्सा शिक्षा विभाग के अन्तर्गत 100 बेड अथवा उससे अधिक क्षमता वाले सभी अस्पतालों में स्वयं का ऑक्सीज़न प्लाण्ट स्थापित करने की दिशा में कार्यवाही की जाए। यह व्यवस्था लागू हो जाने पर अस्पतालों की लिक्विड ऑक्सीज़न पर निर्भरता समाप्त हो जाएगी। उन्होंने इस सम्बन्ध में कार्ययोजना बनाकर समयबद्ध कार्यवाही करने के निर्देश देते हुए कहा कि, भविष्य में स्थापित होने वाले निजी मेडिकल काॅलेज के लिए भी यह व्यवस्था लागू करायी जाए।

ऑक्सीजन की आपूर्ति के सम्बन्ध में भारत सरकार को मांग प्रेषित करते समय उत्तर प्रदेश की विशाल आबादी तथा भविष्य की सम्भावित स्थिति का आकलन किया जाए। तद्नुसार समय पर डिमाण्ड भेजी जाए। उन्होंने अधिकारियों को भारत सरकार तथा ऑक्सीज़न उत्पादकों से निरन्तर संवाद व समन्वय बनाये रखने के निर्देश दिये। खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग का कण्ट्रोल रूम निरन्तर कार्यशील रहे। उन्होंने जनपदों से सम्पर्क बनाकर आॅक्सीजन, रेमडेसिविर एवं अन्य जीवनरक्षक औषधियों के सुचारु एवं पारदर्शितापूर्ण वितरण पर बल दिया।

मुख्यमंत्री ने कोविड टेस्ट की संख्या को बढ़ाने के निर्देश दिये। पूर्व स्थापित प्रयोगशालाओं का क्षमता विस्तार करते हुए अधिक से अधिक टेस्ट किये जाएं। बेहतर कोविड प्रबन्धन में इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर की महत्वपूर्ण भूमिका है। लखनऊ सहित सभी जनपदों में इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर के प्रभावी संचालन पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि सेण्टर के माध्यम से बेड आवंटन की जानकारी, समय पर एम्बुलेंस की उपलब्धता आदि व्यवस्थाएं सुनिश्चित करायी जाएं। उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों को लखनऊ, कानपुर नगर, प्रयागराज के इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर का निरीक्षण करने के निर्देश दिये।

होम आइसोलेशन में रह रहे व्यक्तियों के साथ नियमित संवाद जरूरी है। उन्होंने निर्देशित किया कि होम आइसोलेशन में रह रहे व्यक्तियों को दिये जाने वाले मेडिकल किट में 07 दिन की दवा होनी चाहिए। तत्पश्चात सम्पर्क कर आवश्यकता के अनुसार दवा की खुराक बढ़ाने तथा सम्बन्धित को उपलब्ध कराने की व्यवस्था भी होनी चाहिए। उन्होंने निर्देश दिये कि ‘108’ एम्बुलेंस सेवा की 50 प्रतिशत एम्बुलेंस का उपयोग कोविड मरीजों के लिए किया जाए। एम्बुलेंस के रिस्पाॅन्स टाइम को कम करने पर विशेष ध्यान दिया जाए।

Translate »