September 27, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

काबुल एयरपोर्ट धमाके में 13 अमेरिकी सैनिकों की मौत से अमेरिका में आक्रोश, निशाने पर बाइडन

अफ़ग़ानिस्तान में काबुल एयरपोर्ट के बाहर हुए बम धमाके में 13 अमेरिकी सैनिकों के मारे जाने के बाद अमेरिकियों में आक्रोश दिखाई दे रहा है। इस मुद्दे पर शीर्ष रिपब्लिकन नेता ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन की कड़ी निंदा की है।

 

रिपब्लिकन नेता केविन मैकार्थी/Reuters

 

डेमोक्रेटिक स्पीकर नैंसी पलोसी से पूछे बिना ही रिपब्लिकन नेता केविन मैकार्थी ने सदन के सदस्यों को अगस्त की छुट्टियों के बीच में ही क़ानून बनाने पर विचार करने की बात कही है।

विपक्षी नेता ने कहा कि इसके माध्यम से अमेरिका को अफ़ग़ानिस्तान में तब तक रुकना होगा जबतक के उनके सारे नागरिक वहाँ से सुरक्षित नहीं निकाल लिए जाते।
मैकार्थी ने एक न्यूज़ कॉन्फ़्रेंस में कहा, “ये वो नेतृत्व नहीं था, जिसका राष्ट्रपति ने वादा किया था। यह कमज़ोरी और अयोग्यता की तस्वीर है।”
“कमांडर इन चीफ़ होने के नाते आपको अमेरिकी जनता का विश्वास, आस्था, और साहस चाहिए होता है जो कि तीनों राष्ट्रपति बाइडन ने खो दिया।”

वहीं बाइडन यह बात कह चुके हैं कि 31 अगस्त को अमेरिका और उसके सहयोगी बल अफ़ग़ानिस्तान से निकल जाएंगे।

 

Reuters

 

ग़ौरतलब है कि मैकार्थी के निवेदन पर किसी भी तरह की टिप्पणी करने से पलोसी के दफ़्तर ने इनकार कर दिया। हालांकि, गुरुवार को पलोसी के एक शीर्ष सहयोगी ने ट्वीट किया था, “माइनॉरिटी लीडर मिशन को जारी रखना चाहते हैं और कमांडर इन चीफ़ के हाथ अभियान के बेहद ख़तरनाक दिनों में बांध देना चाहते हैं।”

बता दें कि बाइडन के पहले राष्ट्रपति रहे डोनाल्ड ट्रंप में तालिबान से अमेरिकी सेनाओं की अफ़ग़ानिस्तान से वापसी पर बातचीत की थी। इस बीच कंज़र्वेटिव नेताओं ने बाइडन के इस्तीफ़े, महाभियोग और अन्य मांगों को नज़रअंदाज़ कर दिया है।
कब इसपर मैकार्थी से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, ‘हिसाब-किताब एक दिन होगा। जिस दिन हम सबको अफ़ग़ानिस्तान से बाहर ले आएंगे उसके बाद हम अगले दिन से सवाल और जवाब करेंगे कि इन ग़लतियों के लिए कौन ठीक-ठीक ज़िम्मेदार है।’

Translate »