September 26, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

जो बाइडन ने कहा काबुल एयरलिफ़्ट में जा सकती हैं जानें

अफ़ग़ानिस्तान पर तालिबान के क़ब्ज़े के बाद एक बार फिर राष्ट्रपति बाइडन में अपनी चुप्पी तोड़ी और माना कि अफ़ग़ानिस्तान से अमेरिकियों की वापसी ‘जान जाने के ख़तरे के बिना’ नहीं हो सकती है।

 

Credit- REUTERS

 

जो बाइडन ने व्हाइट हाउस में बोलते हुए कहा कि अब तक अमेरिका ने अफ़ग़ानिस्तान से 13 हज़ार लोगों को निकाला है जो ‘इतिहास का सबसे बड़ा और सबसे मुश्किल एयरलिफ़्ट है।’

राष्ट्रपति बाइडन ने यह भी वादा किया कि अमेरिकियों समेत सभी अमेरिकी फ़ौज की सहायता करने वाले 50-65 हज़ार अफ़ग़ान लोगों को निकाला जाएगा।

बाइडन ने कहा, “कोई भी अमेरिकी जो अपने घर आना चाहते हैं, हम उन्हें घर लाएँगे।”

राष्ट्रपति बाइडन ने कहा कि ‘अमेरिकी फ़ौज देश छोड़ने की उम्मीद को लेकर अफ़ग़ान सहयोगियों से भी ‘यही वादा’ करती है।’ इसके अलावा उन्होंगे बाद में यह भी जोड़ा कि अमेरिकी नागरिकों को निकालना उनकी ‘प्राथमिकता’ होगी।

इस मामले पर उन्होंने कहा, “कोई ग़लती नहीं करनी है, निकालने का यह मिशन ख़तरनाक है। हमारे सुरक्षाबलों पर ख़तरा इसमें शामिल है और यह कठिन परिस्थितियों में किया जा रहा है।”

“मैं वादा नहीं कर सकता हूँ कि अंतिम परिणाम बिना किसी नुक़सान के या नुक़सान के साथ आएगा। लेकिन कमांडर इन चीफ़ होने के नाते मैं आपको भरोसा दिलाता हूँ कि मैं हर ज़रूरी संसाधन को जुटाऊँगा।”

बाइडन ने स्पष्ट किया कि काबुल में फँसे अमेरिकी नागरिकों को निकालने के लिए फ़ौज की ज़रूरत नहीं होगी क्योंकि अमेरिकी पासपोर्ट वाले किसी भी शख़्स को तालिबान एयरपोर्ट पर एंट्री की अनुमति दे रहा है।

लेकिन इन सबके बीच कई रेपिर्ट्स का दावा है कि अमेरिकी नागरिकों को एयरपोर्ट पहुँचने में दिक़्क़त आ रही है। पोलिटिको की एक रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन ने शुक्रवार को नेताओं को बताया था कि ‘अफ़ग़ानिस्तान छोड़ने की कोशिश कर रहे अमेरिकियों को तालिबान लड़ाकों ने पीटा है।’

You may have missed

Translate »