नोएडा में भाकियू ने प्राधिकरण के अधिकारियों को सौंपा ज्ञापन

by Priya Pandey
0 comment

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण पर आगामी 7 फरवरी को होने वाली किसानों की महापंचायत को लेकर भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने ज्ञापन सौंपा। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने किसानों की जमीन का अधिग्रहण तो कर लिया लेकिन किसानों को आवासीय भूखंड व बैक लीज सहित कई समस्याएं अभी तक अटकी हुई हैं। किसानों को लगातार प्राधिकरण के दफ्तर के चक्कर लगाने पड़ते हैं। इसके बाद भी उनकी समस्याओं का निस्तारण नहीं होता। कई बार किसान आंदोलन कर चुके हैं लेकिन उनकी समस्या जस की तस है। इस दौरान उन्होंने कहा कि ग्रेटर नोएडा के किसानों की समस्याओं का प्राधिकरण ने निस्तारण नहीं किया। जिसके लिए किसानों को प्राधिकरण के दफ्तर के चक्कर लगाने पड़ते हैं। किसानों की बैक लीज, आवासीय भूखंड और स्थानीय उद्योगों में युवाओं को नौकरी सहित कई मांगों को लेकर आगामी 7 फरवरी को प्राधिकरण पर महापंचायत की जाएगी।

भारतीय किसान यूनियन अंबावता के राष्ट्रीय प्रवक्ता ब्रजेश भाटी ने बताया कि ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने किसानों की जमीन का अधिग्रहण किया। जिसके बाद किसानों को 10% आवासीय भूखंड प्राधिकरण की तरफ से दिए जाते हैं लेकिन अधिकांश किसानों के अभी तक 10% आवासीय भूखंड नहीं मिले हैं। इसके साथ ही जिन किसानों को 10% आवासीय भूखंड दिए गए हैं उस पर प्राधिकरण पेनाल्टी लगा रहा है। प्राधिकरण द्वारा इस प्रकार पेनाल्टी लगाकर किसानों पर अतिरिक्त भार डाला जा रहा है। जिसको तत्काल प्रभाव से खत्म किया जाए।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि प्राधिकरण कार्यालय में किसानों की एंट्री के लिए पास का सिस्टम चालू किया गया है। बिना पास के किसानों को प्राधिकरण कार्यालय में नहीं आने दिया जाता। प्राधिकरण की इस तानाशाही को खत्म किया जाए। इसी प्रकार की अन्य मांगों को लेकर प्राधिकरण के अधिकारियों को ज्ञापन सौंपा गया। इस मौके पर भारतीय किसान यूनियन अंबावता के प्रदेश अध्यक्ष विकास प्रधान ने कहा कि यहां के किसानों की जमीन का प्राधिकरण ने अधिग्रहण करता है उसके बाद उस जमीन पर उद्योग लगाए जाते हैं। लेकिन यहां के युवाओं को वहां पर रोजगार नहीं दिया जाता।

About Post Author