September 27, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

मायावती ने यूपी के ब्राह्मण वोट पाने के लिए विकास दुबे एनकाउंटर को बनाया मोहरा, खुशी दुबे का केस भी लड़ेंगे

पूर्व मुख्यमंत्री मायावती अब उत्तर प्रदेश के ब्राह्मण वोट पाने के लिए विकास दुबे एनकाउंटर को मोहरा बना रही है।

शुक्रवार को बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने अयोध्या में ब्राह्मण सम्मेलन का शुभारंभ किया है। उत्तर प्रदेश कई जिलों में 23 जुलाई से लेकर 29 जुलाई तक बसपा सुप्रीमो मायावती और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के निर्देश पर ब्राह्मण सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा।

शुक्रवार को अयोध्या से बसपा ने ब्राह्मण सम्मेलन का शुभारंभ किया है। इस दौरान बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा पहुंचे हैं। सतीश चंद्र मिश्रा ने ब्राह्मणों के एनकाउंटर को लेकर बयान दिया है। उन्होंने भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा है कि अब समय आ गया है कि ब्राह्मणों के एनकाउंटर बदला लिया जाए।

सतीश चंद्र मिश्रा ने अयोध्या में कहा कि, उत्तर प्रदेश के ब्राह्मणों ने अगर बसपा का साथ दिया तो मायावती के कार्यकाल में अयोध्या में विशाल राम मंदिर का निर्माण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अगर ब्राह्मण एकजुट होकर बसपा के साथ आए तो उनको सत्ता की चाबी मिलेगी। दलित भाई और ब्राह्मण भाई मिलकर सरकार बनाएंगे, जिसको कोई नहीं हो सकता है।

सतीश चंद्र मिश्रा का कहना है कि, योगी राज में ब्राह्मणों का एनकाउंटर किया गया है। जिसका बदला अब बसपा लेगी। राष्ट्रीय महासचिव राज्यसभा सांसद सतीश चंद्र का कहना है कि, वो खुशी दुबे का मुकदमा भी लड़ेंगे। बीते साल 2 जुलाई 2020 को बिकरू कांड से तीन दिन पहले खुशी की शादी अमर दुबे से हुई थी। बिकरू में 9 पुलिसकर्मी मारे गए थे। फिर पुलिस ने 11 दिन बाद 13 जुलाई को अमर दुबे को मुठभेड़ में मारा दिया था। पुलिस ने खुशी दुबे के उपर विकास दुबे के गिरोह का सदस्य होने का आरोप लगाया गया था। इसे पुलिस ने गिरफ्तार करके जेल भेज दिया था। किशोर न्याय बोर्ड ने उसे नाबालिग करार दे दिया था और फिर खुशी कानपुर जेल से बाराबंकी महिला आश्रय गृह भेज दी गई। नाबालिग करार देने के बाद भी खुशी को जमानत नहीं मिली थी।

Translate »