September 28, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

यूपी विधानसभा का मानसून सत्र कल तक के लिए स्थगित, विपक्ष ने अलग अलग तरह से किया विरोध

उत्तर प्रदेश में विधानमंडल का मानसून सत्र शोक प्रस्ताव पारित होने के बाद काल यानी बुधवार 11 बजे तक स्थगित हो गया।

सत्र शुरू होने से पहले विपक्ष ने अलग-अलग तरह से विरोध प्रदर्शन किया। समाजवादी पार्टी के विधायकों ने महंगाई,
कानून व्यवस्था, कृषि कानून समेत कई मुद्दों को लेकर विधानसभा के अंदर धरना प्रदर्शन किया। तो वहीं कांग्रेसी नेता रिक्शा और ठेला लेकर विधानसभा पहुंचे।

आज़म खान पर फर्ज़ी मुकदमों को लेकर किया विरोध

यूपी विधानमंडल मानसून सत्र शुरू होने से पहले विपक्ष ने अलग-अलग तरह से विरोध प्रदर्शन किया।सपा विधायक ने बताया कि हम लोग यहां बेरोज़गारी, नौजवानों के साथ अत्याचार, किसानों का उत्पीड़न और आजम खान पर फर्जी मुकदमों का विरोध कर रहे हैं। बता दें सपा विधायक बैलगाड़ी पर गन्ना लेकर पहुंचे थे तो वहीं कुछ विधायकों ने हाथों में सिलेंडर के कटआउट और चेहरे पर मास्क लगा रखा था।

कांग्रेसी रिक्शा और ठेला लेकर पहुँचे

उधर यूपी कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू की अगुवाई में कांग्रेसी नेता रिक्शा और ठेला लेकर विधानसभा पहुंचे। बता दें कि सरकार ने विधानसभा के एक किमी परिधि में आज से ही बैलगाड़ी, तांगा चलने पर बैन लगाया है। इससे पहले 16 अगस्त को सर्वदलीय बैठक में सीएम योगी ने सभी विपक्षी दलों को आश्वस्त किया कि सदन की कार्यवाही में सभी मुद्दों पर चर्चा होगी।

सभी मुद्दों पर चर्चा करने को तैयार- मुख्यमंत्री

सत्र शुरू होने से पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, सरकार प्रदेश के विकास, किसान और गरीबों, महिलाओं, युवाओं के लिए बनाई गई योजनाओं और इनसे जुड़े हुए सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए सदन में तैयार हैं। यूपी देश का पहला राज्य है, जिसने 7 करोड़ कोरोना टेस्ट पूरे कर लिए हैं। 6 करोड़ लोगों को वैक्सीन देने वाला भी यूपी पहला राज्य है। उन्होंने बताया कि जनता से जुड़े इन मुद्दों पर चर्चा के लिए ही मानसून सत्र बुलाया गया है।

Translate »