April 11, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

सुबह का समाचार

देश में कोरोना के मामले लगातार तेज़ी से बढ़ रहे हैं। एक दिन में कोरोना के 53,476 नए मरीज़ मिले हैं। वहीं 251 लोगों की मौत हुई है। फिर से कोरोना का ग्राफ़ बढ़ने लगा है। सबसे ज़्यादा मरीज़ महाराष्ट्र में मिल रहे हैं। उसके बाद पंजाब का नंबर है। इन दोनों राज्यों में कई ज़िलों में सख़्ती बढ़ाई गई है। कोरोना के मामलों में टॉप फ़ाइव राज्य महाराष्ट्र, पंजाब, केरल, कर्नाटक, छत्तीसगढ़ हैं।

महाराष्ट्र में कोरोना का विकराल रूप दिख रहा है। एक दिन में राज्य में 31,855 नए मरीज़ मिले हैं। जबकि 95 लोगों की मौत हुई है। राजधानी मुंबई में पांच हज़ार से ज़्यादा नए मरीज़ मुंबई में मिले हैं। सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि अगर लॉकडाउन नहीं चाहिए तो नियमों का सख़्ती से पालन करें। मुंबई के धारावी में कोरोना के मरीज़ फिर बड़ी संख्या में मिल रहे हैं।

राजधानी दिल्ली में कोरोना के मरीज़ लगातार मिल रहे हैं। आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। कभी पॉज़िटिविटी रेट 0.2% तक जा चका था जे अब बढ़कर 1% से ऊपर है। दिल्ली में 24 घंटे में 1254 नए मरीज़ मिले हैं। लगातार दूसरे दिन 1000 से ज़्यादा मरीज़ मिले हैं। हालाकि राजधानी दिल्ली में आरटीपीसीआर टेस्ट बढ़़ाए गए हैं। बढ़ते मामलों को देखते हुए होली,शब-ए-बारात को सार्वजनिक तौर पर मनाने पर रोक लगा दी गई है। वहीं रैंडम आरटीपीसीआर टेस्ट भी किए जा रहे हैं।

कोविड वैक्सीन को देने की रफ़्तार लगातार बढ़ाई जा रही है। बुधवार शाम तक 5.21 करोड़ कोरोना वैक्सीन दी गई है। वहीं बधवार को एक दिन में 13.54 लाख टीके लगाए गए हैं। एक अप्रैल से 45 साल की उम्र से ऊपर के सभी लोग टीका ले सकेंगे। सरकार ने कहा है टीके की कोई कमी नहीं है। सभी रजिस्ट्रेशन कराएं और टीका लें।

दिल्ली में उपराज्यपाल को ज़्यादा ताक़त देने वाला जीएनसीटीडी बिल राज्यसभा में भी पास हो गया है। राज्यसभा में विपक्षी दलों ने बिल के विरोध में वॉक आउट किया। विपक्ष का आरोप है कि दिल्ली की चुनी हुई सरकार के अधिकार पर कब्ज़े की केंद्र की साज़िश है। हालाकि बीजेपी का कहना है कि दिल्ली केंद्र शासित प्रदेश है और इसको देखते हुए ही बिल लाया गया है। वहीं बिल पास होने के बाद दिल्ली सरकार ने इसे काला बिल और लोकतंत्र के लिए काला दिन कहा है। आम आदमी पार्टी ने कहा है कि इस बिल के ख़िलाफ़ आंदोलन जारी रहेगा और जनता को बतायेंगे कि कैसे उनकी चुनी सरकार के अधिकारों पर कब्ज़ा किया गया है।

Translate »