September 26, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

Morning News Headlines सुबह की सुर्खियों पर एक नज़र:

1- इंग्लैंड की भारत पर 27 रन की बढ़त, भारत और इंग्लैंड के बीच लॉर्ड्स में चल रहे दूसरे टेस्ट में इंग्लिश टीम ने 27 रन की बढ़त ले ली है। भारत के 364 रनों के जवाब में इंग्लैंड ने 391 रन बनाए। कप्तान जो रूट 180 रन बनाकर नाबाद पवेलियन लौटे। यह रूट की 22वीं सेंचुरी। यह भारत के खिलाफ उनका 7वां और लगातार दूसरा शतक रहा। भारत की ओर से मोहम्मद सिराज ने 4, इशांत ने 3 और मोहम्मद शमी ने 2 विकेट झटके।

2- भारत ने अफगानिस्तान सेना भेजी तो अच्छा नहीं होगा, अफगानिस्तान पर लगातार कब्जा बढ़ा रहे तालिबान ने भारत को धमकी दी है। तालिबान के प्रवक्ता मोहम्मद सुहैल शाहीन ने कहा है कि अगर भारत ने अफगानिस्तान में मिलिट्री भेजी तो अच्छा नहीं होगा। अफगानिस्तान में दूसरे देशों की मिलिट्री का हाल आप देख चुके हैं। ये मसला खुली किताब है। भारत भी कह चुका है अफगानिस्तान में ताकत के बल पर बनीसरकार को मान्यता नहीं देंगे।

Credit AP

3- 12 साल से बड़े बच्चों को लगेगी कोरोना वैक्सीन, केंद्र सरकार बीमारियों से पीड़ित 12 साल से ज्यादा उम्र के बच्चों का वैक्सीनेशन जल्द शुरू कर सकती है। हालांकि, स्वस्थ बच्चों को फिलहाल टीका नहीं लगाया जाएगा। कोविड-19 वैक्सीनेशन पर सरकार को एडवाइज देने वाली कमेटी के मुताबिक, देश में लगभग 40 करोड़ बच्चे हैं। सभी का वैक्सीनेशन शुरू किया जाता है तो पहले से चल रहे 18+ के वैक्सीनेशन पर असर पड़ेगा।

Credit- REUTERS

4- हर साल 14 अगस्त को मनेगा विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 अगस्त को ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ के तौर पर मनाने की घोषणा की है। मोदी ने ट्वीट करके कहा कि देश के बंटवारे के दर्द को कभी भुलाया नहीं जा सकता। नफरत और हिंसा की वजह से हमारे लाखों भाइयों-बहनों को विस्थापित होना पड़ा। अपनी जान तक गंवानी पड़ी। उनके संघर्ष और बलिदान की याद में यह दिवस मनाने का निर्णय लिया गया है।

5- ओलिंपिक में बेटियों की कामयाबी से सीख लें, स्वतंत्रता दिवस से पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश को संबोधित करते हुए कहा कि इस साल के स्वाधीनता दिवस का खास महत्व है। इसी साल से हम आजादी अमृत महोत्सव मना रहे हैं। ओलिंपिक में महिला खिलाड़ियों की कामयाबी पर उन्होंने कहा कि मैं हर माता-पिता से गुजारिश करता हूं कि वे ऐसी बेटियों के परिवारों से शिक्षा लें और अपनी बेटियों को भी आगे बढ़ने के मौके दें।

Translate »