April 11, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

म्यांमार में सेना और जनता के बीच तनाव जारी, 11 की मौत

स्थानीय मीडिया ने गुरुवार को बताया कि म्यांमार में तख़्तापलट के ख़िलाफ़ प्रदर्शनकारियों ने उत्तर-पश्चिम के एक कस्बे में सुरक्षा बलों द्वारा किए गए हमले के ख़िलाफ़ उनपर राइफ़ल और फ़ायरबॉम्ब से हमला किया जिसमें 11 प्रदर्शनकारियों की मौत हो गयी।

म्यांमार नाउ और इरावाडी समाचार आउटलेट ने कहा कि शुरू में, प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए छह ट्रक सैनिकों को तैनात किया गया था। जब प्रदर्शनकारियों ने बंदूकों, चाकूओं और फ़ायरबॉम्बों के साथ लड़ाई लड़ी, तो सैन्य टुकड़ी के पांच और ट्रक लोड किए गए।

सेना की बढ़ती क्रूरता और हत्याएँ

मीडिया ने कहा कि लड़ाई गुरुवार सुबह तक जारी थी और उसमें कम से कम 11 प्रदर्शनकारी मारे गए और लगभग 20 घायल हो गए।
सैनिकों के बीच किसी के हताहत होने की कोई ख़बर नहीं है। ‘असिस्टेंट एसोसिएशन फ़ॉर पॉलिटिकल प्रिज़नर्स’ (AAPP) के मुताबिक़, 1 फ़रवरी को जून में आंग सान सू की की चुनी हुई सरकार से सत्ता छिनने के बाद से अब तक सैनिकों द्वारा 600 से अधिक नागरिकों की हत्या की गयी है। 
इसमें बुधवार शाम तक मरने वालों की संख्या 598 बताई जा रही है। समाचार एजेंसी रायटर्स इन ख़बरों की पुष्टि करता है।
समाचार मीडिया और प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, बुधवार को ऐसी ही झड़प में कम से कम 11 लोग मारे गए थे। टेज़ AAPP ने कहा कि सुरक्षा बलों ने प्रदर्शनकारियों पर लाइव राउंड, ग्रेनेड और मशीन-बंदूकें दागीं।
“टेज़, केल के जंगल में कई शिकारी हैं,” इस क्षेत्र के निवासी और एक युवा कार्यकर्ता हेन मिन हटिक ने कहा। “उनके पास हस्तनिर्मित फ़ायरवेपन हैं। और अब जबकि लोगों पर जून्टा का हमला हो रहा है, वे अपने हथियारों के साथ स्थानीय लोगों की सुरक्षा के लिए बाहर आ गए हैं।”
देश के सबसे बड़े शहर यांगून में, इस आंदोलन में अपनी जान देने वाले मृत प्रदर्शकारियों को श्रद्धांजलि देने के लिए फूलों से भरे जूते रखे गए।

बड़ी संख्या में गिरफ़्तार होते लोग

AAPP ने कहा है कि वर्तमान में 2,847 लोगों को हिरासत में रखा गया था।
इसके अलावा, इस हफ़्ते सैकड़ों लोगों के लिए गिरफ्तारी वारंट जारी किए गए हैं, जिनमें प्रभावशाली लोगों, मनोरंजनकर्ता, कलाकार और संगीतकार शामिल हैं।
 24 वर्षीय, एक मॉडल और अभिनेता, म्यांमार और थाईलैंड के जाने माने अभिनेता पिंग ताखोन हिरासत में लिए जाने वाले सबसे पहले सेलेब्रिटीज़ में से एक थे। उन्होंने सेना के अधिग्रहण की निंदा की थी और सू की के समर्थन का वादा किया था। उनकी बहन, थि थि लिविन ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स को बताया कि सेना ने उनके भाई को यंगून में उनके माता-पिता के घर पर सुबह 4.30 बजे हिरासत में लिया था, जब वे कई दिनों से अस्वस्थ, मलेरिया और दिल की बीमारी से पीड़ित थे।

दूतावासों पर ताले

लंदन में म्यांमार के राजदूत क्यॉ ज़्वर मिन ने कहा कि उनके दूतावास के बाहर ताला लगा हुआ था, सूत्रों के अनुसार उनके डिप्टी ने उन्हें बाहर कर दिया और सेना की ओर से पदभार ग्रहण कर लिया। उन्होंने कहा “यह एक प्रकार का तख्तापलट है, लंदन के बीच में… आप देख सकते हैं कि उन्होंने मेरी इमारत पर क़ब्जा कर लिया है,”।
मिन आंग लाइंग

 

अन्य वैश्विक केंद्रों और संयुक्त राष्ट्र के दूतावासों में भी इसी तरह के दावे किए गए हैं। इस बीच, सेना प्रमुख जनरल मिन आंग ह्लाइंग ने बुधवार को एक बयान में कहा कि सविनय अवज्ञा आंदोलन, या सीडीएम ने अस्पतालों, स्कूलों, सड़कों, कार्यालयों और कारखानों के कामकाज को रोक दिया था। “सीडीएम देश को नष्ट करने के लिए एक गतिविधि है,” उन्होंने कहा।
बहुतों का यह भी मानना है कि इतने बड़े स्तर पर नागरिकों के साथ हिंसा होना यह साफ़ इशारा करता है कि सेना देश में अपना नियंत्रण खो रही है।
बता दें, सू की और उनकी नेशनल लीग फ़ॉर डेमोक्रेसी पार्टी, वर्तमान में विभिन्न आरोपों का सामना कर रही है। इस बीच यूएन प्रवक्ता में कहा है कि संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत, क्रिस्टीन श्रानेर बर्गनर, अगले कुछ दिनों में म्यांमार का दौरा कर सकते हैं।
Translate »